world soil day 2019

विश्व मृदा दिवस (World soil day)

9 mins read

विश्व मृदा दिवस (WSD) प्रतिवर्ष 5 दिसंबर को स्वस्थ मिट्टी के महत्व को उजागर करने और मृदा संसाधनों के प्रबंधन की वकालत करने के लिए आयोजित किया जाता है।

    • विश्व मृदा दिवस (WSD) 2019 के लिए विषय है “Stop Soil Erosion, Save Our Future.’

प्रमुख बिंदु

2002 में अंतर्राष्ट्रीय मृदा विज्ञान संघ ( International Union of Soil Sciences IUSS) द्वारा इसकी स्थापना का प्रस्ताव रखा गया था।  खाद्य और कृषि संगठन (FAO) ने विश्व मृदा दिवस (WSD) की औपचारिक स्थापना का समर्थन किया है, जो कि थाईलैंड (Thailand) के नेतृत्व में एक वैश्विक जागरूकता बढ़ाने वाला मंच है।

5 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) द्वारा पहला आधिकारिक विश्व मृदा दिवस (WSD) के रूप में मनाया गया था।

5 दिसंबर की तारीख इसलिए चुनी गई क्योंकि यह थाईलैंड के राजा भूमिबोल अदुल्यादेज, आधिकारिक जन्मदिन से मेल खाती है। जिन्होंने आधिकारिक रूप से विश्व मृदा दिवस के आयोजन को मंजूरी दी थी।

खाद्य और कृषि संगठन (FAO) द्वारा दिए जाने वाले पुरष्कार

राजा भूमिबोल विश्व (King Bhumibol) मृदा दिवस पुरस्कार − एक वार्षिक पुरस्कार है, जिससे व्यक्तियों, समुदायों, संगठनों और देशों को सम्मानित किया जाता है जिन्होंने पिछले वर्ष में उल्लेखनीय और मृदा दिवस से संबंधित विशेष गतिविधियों या अभियानों का आयोजन किया था।

ग्लिंका विश्व मृदा पुरस्कार (Glinka World Soil Prize) − यह एक वार्षिक पुरस्कार है, जिसे दुनिया के सबसे अधिक दबाव वाले पर्यावरणीय मुद्दों को हल करने के लिए समर्पित गतिशील परिवर्तन व्यक्तियों को दिया जाता है: “जैसे – मृदा की गिरावट”। यह उन व्यक्तियों और संगठनों को दिया जाता है, जो मृदा प्रबंधन को बढ़ावा देने और मृदा के संसाधनों के संरक्षण में योगदान दे रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous Story

1919 के सत्याग्रह, असहयोग और खिलाफत आंदोलन का बिहार में प्रभाव (MCQ)

Next Story

बिहार एवं रचनात्मक चरण (1924-28) − MCQ

error: Content is protected !!