UPTET 8 January 2020 – Paper – I (Hindi Language) Answer Key

29 mins read

परीक्षा (Exam) – UPTET Paper I Primary Level (Class I to V)
भाग (Part) – Part – I – (Hindi Language)
परीक्षा आयोजक (Organized)
UPBEB
कुल प्रश्न (Number of Question) – 30
Paper Set – D
परीक्षा तिथि (Exam Date) –  8 January 2020


31. प्रकाशन वर्ष की दृष्टि से डॉ. हरिवंश राय बच्चन की रचनाओं का सही अनुक्रम है
(1) मधुकलश, मधुबाला, मधुशाला, निशा निमन्त्रण
(2) मधुशाला, मधुबाला, मधुकलश, निशा निमन्त्रण
(3) निशा निमन्त्रण, मधुबाला, मधुकलश, मधुशाला
(4) मधुबाला, मधुशाला, निशा निमन्त्रण, मधुकलश

32. सुमेल कीजिए।
I. हिन्दी साहित्य सम्मेलन           A. 1893
II. काशी नागरी प्रचारिणी सभा   B. 1918
III राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा  C. 1910
     I  II  III
(1) A B  C
(2) C B  A
(3) B A  C
(4) C A E

33. ‘तुलसीदास’ के रचनाकार हैं
(1) महादेवी वर्मा
(2) केशवदास
(3) सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ ।
(4) डॉ. रामविलास शर्मा

34. ‘अन्या से अनन्या’ आत्मकथा किसकी है ?
(1) मन्नू भंडारी
(2) प्रभा खेतान
(3) सुषम वेदी
(4) उषा नियंवदा

35. ‘प्रभु जी तुम चंदन हम पानी’ किसका वाक्य है ?
(1) कबीर
(2) दादू
(3) नानक
(4) रैदास

36. निम्नलिखित में से कौन-सा पाब्द तद्भव है ?
(1) त्रिकुटी
(2) रख्नेत
(3) प्रभु
(4) नाथ

37. निम्नलिखित में से कौन-सा शाब्व देशज है ?
(1) धड़ाम
(2) लाश
(3) औरत
(4) पतलून

38. छदा के सिर पर चमेली का तेल का अर्थ है
(1) अयोग्य व्यक्ति को अच्छी चीज देना
(2) सिध्या आडम्बर
(3) अधिक पाने की लालच करना
(4) योग्य व्यक्ति को अच्छी चीज़ देना

39. ‘ऋग्वेद’ का सन्धि-विच्छेद क्या है ?
(1) ऋ + वेद
(2) ऋक् + वेद
(3) ऋ + गवेद
(4) ऋग + वेद

40. ‘आपनीती’ शब्द में समास है
(1) कर्मधारय समास
(2) द्वन्द्व समास
(3) द्विगु समास
(4) तत्पुरुष समास

41. ‘घोंसले में चिड़िया है’ में कौन-सा कारक है ?
(1) अपादान कारक
(2) सम्बन्ध कारक
(3) सम्प्रदान कारक
(4) अधिकरपा कारक

निम्नलिखित गद्यांश पढ़कर प्रश्न सं. 42 एवं 43 के उत्तर दीजिए।

गाधीवाद में राजनीतिक और आध्यात्मिक तत्वों का समन्वय मिलता है । यही इस वाद की विशेषता है । आज संसार में जितने भी वाद प्रचलित हैं वह प्रायः राजनीतिक क्षेत्र में सीमित हो चुके हैं । आत्मा से उनका सम्बंध-विच्छेद होकर केवल बाह्य संसार तक उनका प्रसार रह गया है । मन की निर्मलता और ईश्वर निष्ठा से आत्मा को शुद्ध करना गांधीवाद की प्रथम आवश्यकता है । ऐसा करने से नि:स्वार्थ बुद्धि का विकास होता है और मनुष्य सच्चे अर्थों में जन सेवा के लिए तत्पर हो जाता है । गांधीवाद में साम्प्रदायिकता के लिए कोई स्थान नहीं है । इसी समस्या को हल करने के लिए गांधीजी ने अपने जीवन का बलिदान कर दिया था।

42. उपर्युक्त गद्यांश के आधार पर बताइये कि संसार के सारे वाद सीमित हैं
(1) राजनीतिक क्षेत्र तक
(2) साम्प्रदायिकता तक
(3) आत्मा तक
(4) धर्म तक

43. उपर्युक्त गद्यांश में गांधीवाद का आधार किसे बताया गया है ?
(1) राजनीतिक और आध्यात्मिक तत्व को
(2) जनसेवा और अध्यात्म को
(3) ईश्वर निष्ठा और मन की निर्मलता को
(4) राजनीतिक अध्यात्म और साम्प्रदायिकता को

44. ‘कनुप्रिया’ के रचनाकार कौन हैं ?
(1) धर्मवीर भारती
(2) रांगेय राघव
(3) भगवतीचरण वर्मा
(4) नागार्जुन

45. प्लुत स्वर कौन-सा है ?
(1) अउम
(2) ओउम्
(3) ओम्
(4) ओम

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!