UPTET 2016 – Paper – I (Hindi Language) Answer Key

60 mins read

परीक्षा (Exam) – UPTET (UttarPradesh Teacher Eligibility Test) Paper I (Classes I to V)
भाग (Part) – Part – II – हिन्दी भाषा (Hindi Language)
परीक्षा आयोजक (Organized) –  UPBEB

कुल प्रश्न (Number of Question) – 30
परीक्षा तिथि (Exam Date) – 2016


निर्देश : नीचे दिए गए गद्यांश को पड़कर पूछे गए प्रश्नों (प्रश्न सं. 31 से 37) के सही/सबसे उचित उत्तर वाले विकल्प को चुनिए।

शिक्षा आज दुविधा के अजब दोराहे पर खड़ी है। एक रास्ता चकाचौंध का है, मृगतृष्णा शिक्षार्थी को लोभ-लालच देकर अपनी तरफ दौड़ाते रहने को विवश करने को उतारू खड़ी है। बाजार के इन ललचाने वाले रास्तों पर आकर्षण है, चकाचौंध है और सम्मोहित कर देने वाले सपने है। दूसरी तरफ शिक्षा का साधना मार्ग है जो शांति दे सकता है, संतोष दे सकता है और हमारे आत्मतत्त्य को प्रबल करता हुआ विमल विवेक दे सकता है। निश्चित ही यह मार्ग श्रेयस्कर है, मगर अपनी ओर आकर्षित करने वाले बाजार का मार्ग प्रेयस्कर है। इस दोराहे पर खड़ा शिक्षार्थी बाजार को चुन लेता है। लाखों-करोड़ों लोग आज इसी रास्ते के लालच में आ गए हैं और शिक्षा के भंवरजाल में फंस गए है। बाजार की खूबी यही है कि यह फैसने का अहसास किसी को नहीं होने देता और मनुष्य लगातार फैसता चला जाता है। किसी को यह महसूस नहीं होता कि यह दलदल में है बल्कि महसूस वह होता है कि बाजार द्वारा दिए गए पैकेज के कारण वह सुखी है। अब यह अलग बात है कि सच्चा सुख क्या है? और सुख का भ्रम क्या है? जरूरत विचार करने का है। सवाल यह है कि बाजार विचार करने का भी अवकाश देता है या कि नहीं।

Q31. लेखक ने शिक्षा के संदर्भ में किस बात को महत्व दिया है?
(1) विवेक को
(2) साधना को
(3) शिक्षार्थी को
(4) बाजार को

Q32. “दूसरी तरफ शिक्षा का साधना मार्ग हैं’- तो पहली तरफ क्या है?
(1) दलदल में फंसे होने का अहसास
(2) एक अच्छा पैकेज और सुख-शांति
(3) दुविधा का दोराहा और भटकाय
(4) बाजार की चाकाचौंध, सम्मोहन और सपने

Q3. निम में से कौन-सी विशेषता बाजार की नहीं है?
(1) बाज़ार लोगों को सुख-शांति देता है।
(2) बाज़ार सुखी होने का भ्रम पैदा करता है
(3) बाजार लोगों को अपने आकर्षण से बांधता है।
(4) बाजार एक दलदल की तरह है।

Q34. गद्यांश के अनुसार लोग बाज़ार को चुनते हैं, क्योंकि
(1) लोग बाजार से प्रेम करते हैं
(2) लोगो के पास धन-संपत्ति की कमी है
(3) सभी लोग लालची है
(4) बाज़ार में आकर्षण है

Q35. गद्यांश के आधार पर कहा जा सकता है कि
(1) लोग दूसरों को ठगने में आनंदित होते हैं
(2) लोग सांसारिक जीवन जीना पंसद करते हैं
(3) भौतिकवादी सोच हावी नहीं हो रही है
(4) भौतिकवादी सोच हावी हो रही है

Q36. ‘आकर्षण’ का विलोम शब्द है
(1) विकर्षण
(2) उत्कर्ष
(3) गुरुत्वाकर्षण
(4) संघर्षण

Q37. ‘मृगतृष्णा’ का तात्पर्य है
(1) किसी को फंसाने का षड्यंत्र
(2) देर से लगी हुई प्यास का एहसास
(3) हिरनों की प्यास का सामूहिक नाम
(4) दूर से ललचाने वाली वस्तु का भ्रम

(प्रश्न सं. 38 से42) के सही/सबसे उचित उत्तर वाले विकल्प को चुनिए।

Q38. भाषा-शिक्षण के संदर्भ में ‘बहुभाषी कक्षा’ से तात्पर्य है कक्षा में
(1) कम-से-कम दो भाषाओं में शब्दकोश की आवश्यकता
(2) भिन्न-भिन्न भाषाओं में कहानी-कविता के चार्ट आदि की उपलब्धता
(3) अधिकाधिक भाषाओं की पुस्तकों की उपलब्धता
(4) सभी बच्चों को अपनी-अपनी भाषा में बोलने के अवसरों की उपलब्धता

Q39. व्याकरण के ज्ञान का मुख्य उद्देश्य है
(1) भाषा-प्रयोग में अतिशुद्धतावादी होना
(2) भाषा-प्रयोग में व्याकरण का ध्यान रखना
(3) व्याकरणिक बिन्दुओं की परिभाषा याद करना
(4) व्याकरणिक तत्वों की सूची बनाना

Q40. अनुस्वार एवं अनुनासिक का प्रयोग करने संबंधी त्रुटियों को दूर किया जा सकता है
(1) अनुस्वार वाले शब्दों की सूची बनवाकर
(2) छपी सामग्री से समृद्ध वातावरण देकर
(3) स्वयं सही उच्चारण का आदर्श प्रस्तुत कर
(4) अनुनासिक के नियम बताकर

Q41. शैक्षिक प्रक्रियाओं के मूल्यांकन के संदर्भ में आप किस कथन से सहमति प्रकट करेंगे?
(1) परीक्षा और फेल हो जाने का डर वास्तव में बच्चों के लिए प्रेरणा का दात बनकर काम करता है।
(2) कक्षा 8 तक विद्यार्थियों को फेल न किए जाने के प्रावधान के कारण ही विद्यार्थी सीख नहीं पा रहे हैं।
(3) बच्चों को पास-फेल करना वास्तव में व्यवस्थागत वि. फलताओं को बच्चों के सिर मढ़ना है।
(4) कक्षा 8 तक विद्यार्थियों को फेल नहीं करने के प्रावधान के कारण देश में शिक्षा का स्तर गिर रहा है।

Q42. उच्च प्राथमिक स्तर पर लेखन क्षमता का आकलन करते समय आप किस बिन्दु को सर्वाधिक महत्त्व देंगे?
(1) विचारों को मौलिकता
(2) मिश्रित वाक्य-संरचना
(3) वर्तनीगत शुद्धता
(4) तत्सम शब्दावली

Q43. सीखने-सिखाने की प्रक्रिया के संदर्भ में आप किस कथन से सहमत हैं?
(1) बच्चों को किन्हीं अवधारणाओं को न सीखने के कारण फेल करके रोकना उचित ही है।
(2) एक कक्षा में हम जो सीखते हैं उसके सभी अंश अगली कक्षा के लिए अनिवार्य बुनियाद होते हैं।
(3) जो बच्चे पिछली कक्षा की बातें नहीं सीख पाए हैं, वे अगली कक्षा में और पिछड़ जाएंगे अत: उन्हें उसी कक्षा में रोक देना चाहिए।
(4) जो बच्चे किसी कक्षा में सीख नहीं पाए हैं, उन्हें फेल करके रोकने से भी जरूरी नहीं कि वे सीख जाएँ।

Q44. कक्षा 8 के लिए पाठ्य-पुस्तक का निर्माण करते समय महत्वपूर्ण है
(1) विधागत विविधता होना
(2) प्रसिद्ध लेखकों को रचनाएँ
(3) पाठों की संख्या सीमित होना
(4) सभी व्याकरणिक तत्त्वों का समावेश

Q45. पाठा-पुस्तक को आधार बनाकर पूछे जाने वाले प्रश्न
(1) पाठ की विषयवस्तु का विस्तार करने वाले होने चाहिए
(2) स्मरण-शक्ति को समृद्ध करने वाले होने चाहिए
(3) पाठ में दिए गए तथ्यों पर ही आधारित होने चाहिए
(4) लिखावट को सुंदर बनाने में सहयोगी होने चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!