UPTET 2015 – Paper – I (Hindi Language) Answer Key

45 mins read

परीक्षा (Exam) – UPTET (UttarPradesh Teacher Eligibility Test) Paper I (Classes I to V)
भाग (Part) – Part – II – हिन्दी भाषा (Hindi Language)
परीक्षा आयोजक (Organized) –  UPBEB

कुल प्रश्न (Number of Question) – 30
परीक्षा तिथि (Exam Date) – 2015


निर्देश (प्र. सं. 31-36): निम्मलिखित काव्यांश को पड़कर दिए गए प्रश्नों के सही/सबसे उपर्युक्त उत्तर वाले विकल्प को चुनकर लिखिए।

जीवन के इस मोड़ पर, कुछ भी कहा जाता नहीं। अधरों को डयोड़ी पर, शब्दों के पहरे है। हंसने को हँसते हैं, जीने को जीते हैं साधन-सुभीतों में, ज्यादा ही रीते है। बाहर से हरे-भरे, भीतर घाव मगर गहरे सबसे के लिए गूंगे हैं, अपने लिए बहरे है।

Q31. ‘कुछ भी कहा जाता नहीं’ – ऐसा क्यों?
(1) बन्धन और बेबसी के कारण
(2) साधन सुविधाओं के अभाव के कारण
(3) गूंगा होने के कारण
(4) भीतर के घायों के कारण

Q32. कविता की पंक्तियों में मुख्यतः बात की गई है
(1) घावों के हो-भरे होने की
(2) कुछ भी न कह पाने की विवशता की
(3) गूंगा-बहरा होने की
(4) साधन-सुभीतों की

Q33. ‘रीते’ शब्द से भाव है
(1) परायेपन का
(2) अपनेपन का
(3) खालीपन का
(4) खोलखालेपन का

034. कविता की पंक्तियों के आधार पर कहा जा सकता है कि
(1) कवि घावों के गहरे होने से दुःखी है
(2) कवि कुछ भी कहने या सुन पाने की स्थिति में नहीं है
(3) कवि के जीवन में बहुत अभाव है
(4) कवि कुछ भी करने की स्थिति में नहीं है

Q35. ‘ड्योड़ी’ का अर्थ है
(1) देहरी
(2) घर
(3) दरवाजा
(4) चौखट

Q36. ‘भीतर के घाव’ से तात्पर्य है
(1) घर के भीतर की अशान्ति
(2) शारीरिक क्षति
(3) हृदय की पीड़ा
(4) अन्दरूनी चोट

निर्देश (प्र सं. 37-41) : नीचे दिए गए प्रश्नों के सही/सबसे उपयुक्त उत्तर वाले विकल्प को चुनिए।

Q37. भाषा सीखने का उद्देश्य है
(1) आदेश-निर्देश दे पाना और सुन पाना
(2) प्रत्येक स्थिति में भाषा का प्रयोग कर पाना
(3) दूसरों की बातों को समझ पाना
(4) अपने मन की बात कह पाना

Q38. “बच्चों के भाषायी विकास में समाज की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।” यह विचार किसका है?
(1) स्किनर
(2) पियाजे
(3) चमकी
(4) वाइगोत्सको

Q39. विद्यार्थियों का भाषायी विकास समयता से हो सके, इसके लिए सबसे उपयुक्त अनुशंसा होगी
(1) भाषा प्रयोग के विविध अवसरों को
(2) शब्दकोष एवं विश्वकोष के प्रयोग की
(3) सतत एवं व्यापक आकलन की
(4) सर्वोत्कृष्ट पाठय-पुस्तकों की

Q40. लिखित भाषा का प्रयोग
(1) कार्यालयी कार्यों के लिए ही किया जाता है
(2) केवल प्रतिवेदन-लेखन के लिए किया जाता है
(3) अपनी अभिव्यक्ति के लिए किया जाता है
(4) केवल साहित्य सृजन के लिए किया जाता है

Q41. भाषा की कक्षा में भाषायी खेलों का आयोजन
(1) आकलन का काम करता है
(2) भाषा सीखने की प्रक्रिया में स्वाभाविकता लाता है
(3) रोचकता और जोश लाता है
(4) अध्यापक के काम को सरल बनाता है

Q42. कविता-कहानियों पर चर्चा करने एवं प्रश्न पूछने का उद्देश्य
(1) कल्पनाशीलता का पोषण करना मात्र है
(2) भाषा की विभिन्न छटाओं का अनुभव कराना है
(3) भाषा सीखने का आकलन करना मात्र है
(4) साहित्य के प्रति बच्चों की रुचि जाग्रत करना है

Q43. भाषा का अस्तित्व एवं विकास______के बाहर नहीं हो सकता।
(1) साहित्य
(2) परिवार
(3) समाज
(4) विद्यालय

Q44. किसी समावेशी कक्षा में कौन-सा कथन भाषाशिक्षण के सिद्धांतों के अनुकूल है?
(1) बच्चे अपने अनुभवों के आधार पर भाषा के नियम नहीं बना पाते
(2) प्रिन्ट-समृद्ध माहौल भाषा सीखने में मदद करता है
(3) भाषा विद्यालय में रहकर अर्जित की जाती है
(4) व्याकरण के नियमों का शान भाषा-विकास की गति त्वरित करता है

Q45. प्राथमिक स्तर पर विद्यार्थियों के भाषा-शिक्षण के सन्दर्भ में कौन-सा कथन सही है?
(1) बच्चे समृद्ध भाषिक परिवेश में सहज रूप से स्वत: भाषा में सुधार कर सकते हैं।
(2) सतत् रूप से की जाने वाली टिप्पणियाँ एवं अनवरत अभ्यास भाषा सीखने में रुचि उत्पन्न करते हैं
(3) बच्चों की भाषाई संकल्पनाओं और विद्यालय के भाषाई परिवेश में विरोधाभासी भाषा सीखने में मदद करता है
(4) बच्चे भाषा की जाटिल और समृद्ध संरचनाओं का शान विद्यालय में ही अर्जित करते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!