UPTET 2012 – Paper – I (Child Development and Pedagogy) Answer Key

  • UP TET

Q16. भारत में बहुत से बच्चे, विशेषकर लड़कियाँ, विद्यालय में आने से पहले और विद्यालय से वापस जाने के बाद घर का काम करते हैं। आपके विचार से इस संदर्भ में एक शिक्षिका को गृहकार्य के बारे में क्या करना चाहिए?
(1) शिक्षिका को सुनिश्चित करना चाहिए कि बच्चे अपना गृहकार्य पूरा करने के लिए सुबह जल्दी उठे और देर तक रुकें।
(2) शिक्षिका को ऐसा गृहकार्य देना चाहिए जो विद्यालय में कराए गए अधिगम को बच्चों के घरेलू जीवन से जोड़ता है।
(3) बच्चों के माता-पिता से उनके गृहकार्य को पूरा कराने के लिए ट्यूशन लगवाने के लिए कहिए।
(4) उसे उन बच्चों को कठोर दंड देना चाहिए जो अपना गृहकार्य पूरा नहीं करते हैं।

Q17. एक प्रभावी कक्षा में:
(1) बच्चे हमेशा उत्सुक और तैयार रहते है, क्योंकि शिक्षक उनकी प्रत्यास्मरण योग्यता का आकलन करने के लिए नियमित रूप से परीक्षा लेता रहता है।
(2) बच्चे अपने अधिगम को सुगम बनाने के लिए मार्गदर्शन एवं सहयोग हेतु शिक्षक से सहायता लेते हैं।
(3) बच्चे शिक्षक से डरते हैं, क्योंकि वह मौखिक और शारीरिक दंड का प्रयोग करता है।
(4) बच्चे शिक्षक का सम्मान नहीं करते हैं और जैसा उन्हें अच्छा लगता है वैसा ही करते हैं।

Q18. ज्ञान के एक बड़े असम्बद्ध भाग को प्रस्तुत करनाः
(1) शिक्षिका के कार्य को कठिन और शिक्षार्थियों के कार्य को आसान बनाएगा।
(2) अपने तरीके से जानकारी को व्यवस्थित करने में fशक्षार्थियों की सहायता करेगा।
(3) शिक्षार्थियों के लिए अवधारणात्मक समझ को प्राप्त करने को कठिन बनाएगा।
(4) शिक्षार्थियों के लिए प्रत्यास्मरण को आसान बनाएगा।

Q19. क्या बच्चे इसलिए भाषा अर्जित करते हैं, क्योंकि उनमें आनुवंशिक रूप से ऐसा करने की पूर्वप्रवृत्ति होती है या उनके माता-पिता प्रारंभिक अवस्था से ही उन्हें गहन रूप से सिखाते हैं? यह प्रश्न आवश्यक रूप से दर्शाता है:
(1) भाषा के विकास पर संज्ञान का प्रभाव।
(2) क्या विकास एक सतत प्रक्रिया है या एक असतत प्रक्रिया?
(3) प्रकृति और पोषण पर बहस
(4) बहु-कारक योग्यता के रूप में विकास पर चर्चा।

Q20. अमूर्त वैज्ञानिक चिन्तन के लिए क्षमता का विकास निम्नलिखित अवस्थाओं में से किसकी एक विशेषता है?
(1) औपचारिक संक्रियात्मक अवस्था
(2) मूर्त संक्रियात्मक अवस्था
(3) संवेदी-गतिक अवस्था
(4) पूर्व-संक्रियात्मक अवस्था

Q21. एक बच्चा तर्क प्रस्तुत करता है- ‘आप यह मेरे लिए करें और मैं वह आपके लिए करूँगा।’ यह बच्चा कोहलबर्ग की नैतिक तर्कणा की किस अवस्था के अंतर्गत आएगा?
(1) सामाजिक-अनुबंध अभिमुखीकरण
(2) ‘अच्छा लड़का-अच्छी लड़की’ अभिमुखीकरण
(3) सहायक उद्देश्य अभिमुखीकरण
(4) दण्ड और आज्ञापालन अभिमुखीकरण

Q22. प्रगतिवादी शिक्षाः
(1) पाठ्य-पुस्तकों पर आधारित है, क्योंकि वे ज्ञान के एकमात्र वैध दाोत हैं।
(2) अनुबंधन और पुनर्बलन के सिद्धांतों पर आधारित है।
(3) इस मत पर विश्वास करती है कि शिक्षक को अपने उपागम में दृढ़ रहना हे और वर्तमान समय में बिना दंड का प्रयोग किए बच्चों को पढ़ाया नहीं जा सकता है।
(4) समस्या समाधान और आलोचनात्मक चिंतन पर अधिक बल देती है।

Q23. विभिन्न मुद्दों और विमर्शों पर उनके लिए कारण प्रस्तुत करते हुए बच्चों को अपनी व्यक्तिगत राय को व्यक्त करने के लिए प्रोत्साहित करने वाले प्रश्न किसको बढ़ावा देते है?
(1) विश्लेषणात्मक और आलोचनात्मक चिंतन
(2) बच्चों का मानकीकृत आकलन
(3) अभिसारी चिंतन
(4) जानकारी का पुन:स्मरण

Q24. निम्नलिखित में से कौन-सा कथन विकास और अधिगम के बीच संबंध को सर्वश्रेष्ठ रूप में जोड़ता है?
(1) अधिगम विकास के पीछे रहता है
(2) विकास अधिगम से स्वतंत्र है।
(3) अधिगम और विकास समानार्थक पारिभाषित शब्द हैं।
(4) अधिगम और विकास एक जटिल तरीके से अत:संबंधित है।

Q25. इनमें से कौन-सा विकास का एक सिद्धांत नहीं
(1) विकास केवल संस्कृति से शासित और निर्धारित होता
(2) विकास संशोधनयोग्य होता है।
(3) विकास जीवनपर्यत होता है
(4) विकास वंशानुक्रम और पर्यावरण दोनों से प्रभावित होता है

Q26. बाल-केंद्रित कक्षा की एक प्रमुख विशेषता है कि उसमें
(1) शिक्षक के मार्गदर्शन से शिक्षार्थियों को अपनी स्वयं की समझ का निर्माण करने के लिए उत्तरदायी बनाया जाता है।
(2) शिक्षक की भूमिका ज्ञान को सीखने के लिए उसे प्रस्तुत करना है और शिक्षार्थियों का मानक मापदण्डों पर आकलन करना है।
(3) शिक्षक के द्वारा बल प्रयोग और मनोवैज्ञानिक नियंत्रण होता है, जो अधिगम पथ और बच्चों के व्यवहार को निधरित करता है।
(4) शिक्षक बच्चों के लिए व्यवहार के समरूप तरीकों को निर्धारित करता है और जब वे उसका पालन करते हैं, तो उन्हें उपयुक्त पुरस्कार देता है।

Q27. बुद्धि के बारे में निम्नलिखित में से कौन सा कथन सर्वाधिक उपयुक्त है?
(1) बुद्धि मूलभूत रूप से स्नायु-तंत्र-संबंधी कार्यप्रणाली है। उदाहरणार्थ- प्रक्रमण की गति, संवेदी-विभेद आदि।
(2) बुद्धि को केवल मानकीकृत बद्धिलब्धि परीक्षणों के आयोजन के द्वारा विश्वसनीय रूप से निर्धारित किया जा सकता है।
(3) बुद्धि विद्यालय में अच्छा प्रदर्शन करने की योग्यता है।
(4) बुद्धि बहु-आयामी है और इसमें कई पहलू निहित हैं।

Q28. लिंग (जेंडर) पक्षपात……………की ओर संकेत करता है।
(1) धियोचित और पुरुषोचित विशेषताओं में सापेक्षिक रूप से स्वयं का बोध
(2) आनुवंशिक विभिन्नताएँ जो लड़कों और लड़कियों में मौजूद हैं।
(3) अपने शरीर-विज्ञान के कारण लड़कों और लड़कियों के बीच विभिन्नताओं की स्वीकृति
(4) सांस्कृतिक अभिवृत्तियों के कारण अपेक्षाओं पर आधरित लड़कों और लड़कियों से भिन्न व्यवहार करना

Q29. एक उच्च प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक के रूप में आपके पास कक्षा में कुछ ऐसे बच्चे हैं जो प्रथम पीढ़ी के रूप में विद्यालय आ रहे हैं। आपके द्वारा निम्नलिखित में से किसे किए जाने की संभावना सर्वाधिक है?
(1) उन्हें याद करने के लिए और उत्तर को पाँच बार अपनी उत्तर पुस्तिका में लिखने के लिए गृहकार्य देंगे।
(2) कक्षा गतिविधि के समय और गृहकार्य के लिए उन्हें बुनियादी सहयोग और अन्य सहायता उपलब्ध कराएंगे।
(3) बच्चों से कहेंगे कि उनमें आगे पढ़ने की क्षमता नहीं है और अब उन्हें अपने माता-पिता के काम में सहायता करनी चाहिए।
(4) माता-पिता को बुलाएंगे और उनसे अपने बच्चों का ट्यूशन लगाने को नम्रतापूर्वक कहेंगे।

030. समान आयु के बच्चों में भी आकति. योग्यता. स्वभाव, रुचि, प्रवृत्ति और अन्य बातों में बहुत अंतर होता है। इस संदर्भ में विद्यालय की क्या भूमिका है?
(1) सुनिश्चित करना कि शिक्षक मानकीकृत निर्देश और पाठ्यपुस्तकों का उपयोग करे।
(2) बच्चों के आकलन के लिए नियामक मानक स्थापित करना।
(3) सुनिश्चित करना कि सभी बच्चों का विकास एक ही प्रकार से हो।
(4) सुनिश्चित करना कि प्रत्येक बच्चे को अपनी क्षमताओं के अनुसार विकास के अवसर मिलें।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *