प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों को संकट से उबारने के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (PM Kisan Samman Nidhi Yojana) की शुरुआत की है। योजना के तहत, किसानों को हर साल प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (DBT) के माध्यम से किसानों के बैंक खाते में 6,000 रुपये की सहायता प्रदान की जाएगी। यह राशि उन्हें 2,000-2,000 रुपये की तीन किस्तों में दी जाएगी।

क्या है प्रधानमंत्री किसान सम्मान कोष योजना:

केंद्र सरकार ने किसानों को गरीबी के संकट से राहत दिलाने के लिए प्रधानमंत्री किसान निधि (पीएम किसान) योजना शुरू करी है। इस योजना से देश के 12 करोड़ से अधिक किसानों को फायदा मिलेगा। इसके तहत किसानों को 6,000 रुपये की सालाना गारंटीड आय मिलेगी। पहली किस्त के रूप में किसानों को कुल 2,021 करोड़ रुपये जारी की गई है।

पीएम-किसान (PM Kisan) के तहत 10 मार्च से पहले 4.76 करोड़ किसान पंजीकृत हो चुके हैं। अब तक 3.10 करोड़ किसानों को पहली और 2.10 करोड़ किसानों को दूसरी किस्त जारी की जा चुकी हैं।

केंद्रीय कृषि मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, देश के पात्र किसानों की संख्या जिन्होंने चुनाव आचार संहिता से पहले खुद को पंजीकृत नहीं किया है, उनकी संख्या लगभग सात करोड़ है। वर्तमान में, प्रधानमंत्री किसान निधि योजना की किश्तें उनके बैंक खातों में जमा नहीं की जा  सकी हैं।

योजना का लाभ (Benefit of scheme):

  • स्कीम का फायदा उन सभी किसानो को मिलेगा जिनके पास 2 हेक्टेयर (5 एकड़ ) तक खेतिहर जमीन है।
  • फरवरी, 2019 तक जिन किसानों के नाम राज्य के लैंड रिकॉर्ड्स में दिखेंगे, उन्हें इस स्कीम का फायदा मिलेगा। 
  • सरकारी कर्मचारियों की बात करें तो मल्टी-टास्किंग स्टाफ/क्लास IV/ग्रुप डी कर्मचारी इस स्कीम का लाभ ले पाएंगे। 
  • योजना का उदेश्य 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करना है।

योजना का लाभ किसे नहीं मिलेगा (Who will not get the benefits of the scheme):

  •  सरकारी कर्मचारी और इनकम टैक्स देने वालों को पीएम किसान योजना का लाभ नहीं ले सकते।
  • विधायकों व मंत्रियों को भी इस योजना का लाभ नहीं  मिलेगा।
  • 10,000 रुपये या ज्यादा पेंशन पाने वाले भी इस योजना का लाभ नही ले सकते।
  • संस्थागत भूमि मालिकों को भी योजना का लाभ नहीं  मिलेगा।

Official Websitehttps://pmkisan.nic.in/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *