हिमाचल प्रदेश में राष्ट्रीय उद्यान

हिमाचल प्रदेश में राष्ट्रीय उद्यान

31 mins read

हिमाचल प्रदेश में राष्ट्रीय उद्यान (National Parks in Himachal Pradesh)


राष्ट्रीय उद्यान क्या है (what is National park)-

राष्ट्रीय उद्यान (National park) एक ऐसा क्षेत्र है, जो वन्यजीवों और जैव विविधता की बेहतरी के लिए सख्ती से आरक्षित है, और जहाँ विकास, वानिकी, अवैध शिकार, खेती और पालतू पशुओं को चराने जैसी गतिविधियों की अनुमति नहीं है।

इन पार्कों में, निजी स्वामित्व (Private ownership) के अधिकारों की भी अनुमति नहीं है। उनकी सीमाएं अच्छी तरह से चिह्नित और परिचालित हैं।राष्ट्रीय उद्यान (National park) आमतौर पर 100 वर्ग किमी से 500 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैले होते हैं। राष्ट्रीय उद्यानों में, एकल पुष्प (floral) या पशु प्रजातियों (faunal species) के संरक्षण पर जोर दिया गया है।

हिमाचल प्रदेश में राष्ट्रीय उद्यान (National Parks in Himachal Pradesh)-

हिमाचल प्रदेश में समृद्ध वनस्पति और जीव हैं, और हिमाचल में कई राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्य हैं। ये वन्यजीव अभयारण्य, संरक्षण अभ्यारण्य और राष्ट्रीय उद्यान आगंतुक को राज्य के जंगल का आनंद लेने और अनुभव करने का एक बहुत अच्छा अवसर प्रदान करते हैं।

हिमाचल प्रदेश में मुख्य रूप से 5 राष्ट्रीय उद्यान है-

  1. ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क (Great Himalayan National Park)
  2. पिन वैली नेशनल पार्क (Pin Valley National Park)
  3. इन्देराकिल्ला नेशनल पार्क (Inderkilla National Park)
  4. खिरगंगा राष्ट्रीय उद्यान (Khirganga National Park)
  5. सिम्बलबारा नेशनल पार्क (Simbalbara National Park)

1. ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क (Great Himalayan National Park):

द ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क (GHNP), भारत के राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है, हिमाचल प्रदेश राज्य में कुल्लू क्षेत्र में स्थित है। राष्ट्रीय उद्यान 1984 में स्थापित किया गया था और 1500 से 6000 मीटर की ऊंचाई पर 1,171  KM2 के क्षेत्र में फैला हुआ है। GHNP को औपचारिक रूप से 1999 में राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था। इसे 23 जून 2014 को वर्ल्ड हेरिटेज साइट का टैग मिला।

द ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क कई वनस्पतियों और 375 से अधिक जीवों की प्रजातियों का निवास स्थान है, जिनमें लगभग 31 स्तनधारी, 181 पक्षी, 3 सरीसृप, 9 उभयचर, 11 एनीलिड, 17 मोलस्क और 127 कीड़े शामिल हैं।

  • 2010 में, सैंज और तीर्थन वन्यजीव अभयारण्य दोनों को जीएचएनपी में जोड़ा गया था।
  • GHNP में पश्चिमी ट्रगोपैन, चीर तीतर, एशियाई काला भालू, हिमालयन मस्क डियर स्नो लेपर्ड, ब्लू शीप, सीरो और हिमालयन ताहर सहित कई दुर्लभ और संकटग्रस्त प्रजातियों का आवास हैं।
  • GHNP की सीमाएं हाल ही में स्थापित (2010) खिरगंगा राष्ट्रीय उद्यान (710 वर्ग किमी), ट्रांस-हिमालय में पिन वैली नेशनल पार्क (675 वर्ग किमी), सतलुज जलसंधि में रूपी-भाभा वन्यजीव अभयारण्य (503 वर्ग किमी), कानवार वन्यजीव अभयारण्य (61 वर्ग किमी) के साथ स्पर्श करती हैं।

2. पिन वैली नेशनल पार्क (Pin Valley National Park):

पिन वैली नेशनल पार्क हिमाचल प्रदेश के लाहौल और स्पीति जिले में स्थित है। इसकी स्थापना 9 जनवरी 1987 को हुई थी। पिन वैली नेशनल पार्क का कुल क्षेत्रफल 1825 वर्ग किमी (कोर जोन के रूप में 675 वर्ग किमी और बफर जोन के रूप में 1150 वर्ग किमी) में फैला है।

इस पार्क को  हिम तेंदुओं (Snow Leopards: also known as grey ghost of Himalayas) के घर के रूप में भी जाना जाता है तथा  यह कई अन्य लुप्तप्राय जानवरों जैसे साइबेरियन इबेक्स, भारल, वीसेल, रेड फॉक्स और मार्टन का प्राकृतिक आवास भी है। कई दुर्लभ पक्षी जैसे पिका, हिमालयन स्नोकॉक, गिद्ध, चकोर पार्ट्रिज, स्नो पार्ट्रिज, गोल्डन ईगल, ग्रिफॉन, हिमालयन चाउ, स्नोफिंच और रेवेन भी यहां देखे जा सकते हैं।

3. इन्देराकिल्ला नेशनल पार्क (Inderkilla National Park):

इन्देराकिल्ला नेशनल पार्क (Inderkilla National Park) की स्थापना 2010 में हुई थी। यह 104 वर्ग किलोमीटर (40 वर्ग मील) के क्षेत्र में फैला हुआ है। राष्ट्रीय उद्यान कुल्लू जिले में स्थित है और कुल्लू मनाली हवाई अड्डे से 46 किलोमीटर दूर है। इन्देराकिल्ला नेशनल पार्क विभिन्न प्रकार की वनस्पतियों और जीवों का संरक्षण करता है।

इन्देराकिल्ला नेशनल पार्क (Inderkilla National Park) मुक्य रूप से बाघों के संरक्षण के लिया बनाया गया था।

4. खिरगंगा राष्ट्रीय उद्यान (Khirganga National Park):

खिर गंगा पार्वती घाटी में 3050 मीटर की ऊँचाई पर स्थित एक छोटा सा गाँव है इसी गाँव  के नाम पर कुल्लू जिले में वर्ष 2010 में स्थापित, खिरगंगा राष्ट्रीय उद्यान जो की भुंतर से 56 किमी, मणिकरण से 22 किमी की दूरी पर है। राष्ट्रीय उद्यान लगभग 710 वर्ग किलोमीटर (270 वर्ग मील) के क्षेत्र में फैला हुआ है।

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क के साथ उत्तर में अपनी सीमा को साझा करते हुए, खिरगंगा नेशनल पार्क को शुरुआत में नेशनल पार्क के साथ विलय कर दिया गया था, लेकिन कुछ रखरखाव के मुद्दों के कारण, पार्क को ग्रेट नेशनल हिमालयन पार्क से अलग रखा गया था।

इस क्षेत्र में जंगली भालू (bears) बहुत आम हैं। खिरगंगा राष्ट्रीय उद्यान की यात्रा का सबसे अच्छा समय मई और नवंबर के बीच होता है जब मौसम सुखद और अनुकूल रहता है। खिरगंगा सर्दियों के दौरान बर्फ से ढकी रहती है और गर्मियों के दौरान केवल अस्थायी बसावट मिलती है।

5. सिम्बलबारा नेशनल पार्क (Simbalbara National Park):

1958 में स्थापित, सिम्बलबारा नेशनल पार्क (Simbalbara National Park) सिरमौर जिले के पांवटा घाटी में स्थित है,ये हिमाचल प्रदेश के सबसे आकर्षक पर्यटन स्थलों में से एक है। 1974 में सिम्बलबारा वन्यजीव अभयारण्य के रूप में स्थापित किया गया, इस पार्क ने 19.03 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को कवर किया। हालांकि 2010 में, यह अतिरिक्त 8.88 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को अपनी सीमाओं में विलय करके एक राष्ट्रीय उद्यान (national park) में बदल दिया गया। वर्तमान समय में, सिम्बलबारा नेशनल पार्क अब  27.88 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है।

पार्क अपनी अनूठी और विविध वन्यजीव और पक्षी प्रजातियों के लिए प्रसिद्ध है। इस पार्क में एक बेहतर जैव विविधता है क्योंकि क्षेत्र की संपूर्ण पारिस्थितिक प्रणाली एक खाद्य श्रृंखला के साथ अच्छी तरह से जुड़ी हुई है और परजीवी पर्यावरण जैव विविधता में संतुलन बनाए रखता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!