naval artillery gun

MK−45 Naval Artillery Gun

7 mins read

naval artillery gun

संयुक्त राज्य अमेरिका (USA) ने भारत को 13, MK−45 नौसैन्य बंदूकें (Naval guns) और संबंधित उपकरणों की बिक्री को मंजूरी दी है।

MK-45 (MOD4) अत्याधुनिक नौसैन्य बंदूके है, जो सतह युद्ध और वायु रक्षा मिशन संचालित करने की क्षमता प्रदान करेगी।

इन बंदूकों का प्रयोग थल सेना द्वारा और अंतर्देशीय क्षेत्रों को नियंत्रित करने के लिए भी किया जा सकता है। इन बंदूकों की रेंज 20 समुद्री मील या 36 किमी है।

भारत उन कुछ देशों में से एक बन गया है जिन्हें अमेरिका ने अपनी नौसैन्य बंदूकों के नवीनतम संस्करण (MOD−4) को बेचने का फैसला किया। अमेरिका द्वारा ऑस्ट्रेलिया, जापान, थाईलैंड और दक्षिण कोरिया को भी इन नौसैन्य बंदूकों का निर्यात किया जाता हैं।

संयुक्त राज्य अमेरिका (USA) ने हाल ही में भारत के साथ कई रक्षा संबंधी समझौते किए हैं, जो निम्नलिखित है −

General Security Of Military Information Agreement (GSOMIA)

    • इसके द्वारा आतंकवादियों की खुफिया जानकारी को दोनों देशों द्वारा आपस में साझा किया जा सकेगा है।

Logistics Exchange Memorandum of Agreement (LEMOA)

    • इसके द्वारा दोनों देशों को ईंधन भरने और पुनःपूर्ति के लिए एक दूसरे की निर्दिष्ट सैन्य सुविधाओं तक पहुंच प्रदान करने की अनुमति देता है।

Communications and Information Security Memorandum of Agreement (CISMOA)

    • इसका उद्देश्य अमेरिका से भारत के लिए अत्यधिक संवेदनशील संचार सुरक्षा उपकरणों के हस्तांतरण के लिए एक कानूनी ढांचा प्रदान करना है।

Basic Exchange and Cooperation Agreement (BECA)

    • BECA भारत और अमेरिका को एक दूसरे के साथ भू-स्थानिक और उपग्रह डेटा साझा करने की अनुमति देगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!