उत्तराखंड आद्य ऐतिहासिक काल के प्रमुख लेख

उत्तराखंड आद्य ऐतिहासिक काल के प्रमुख लेख

9 mins read

अशोक का कालसी अभिलेख

  • यमुना और टोंस नदी के संगम पर कालसी नामक एक छोटा सा क़स्बा है, जिसका प्राचीन नाम खलतिका” था, और कही-कहीं इसका नाम “कालकूट”“युगशैल” भी मिलता है। 
  • देहरादून में अमलावा नदी और यमुना नदी के संगम पर 257 ई.पू. में लिखित अशोक का कालसी अभिलेख  स्थित है। 
  • अशोक का कालसी अभिलेख की प्राकृत भाषा औरब्राह्मी लिपि में है।
  • कालसी अभिलेख में यहाँ के निवासियों के लिए पुलिंद तथा इस क्षेत्र के लिए अपरांत शब्द का प्रयोग किया गया है
  • कालसी अभिलेख की खोज वर्ष 1860 ब्रिटिश व्यक्ति फारेस्ट द्वारा की गयी थी  
  • पाद्रेटी फेंथैलर ने अशोक के शिलालेख की खोज की थी।

राजकुमारी ईश्वरा का अभिलेख (प्रशस्ति)

  • लाखामण्डल से राजकुमारी ईश्वरा का अभिलेख (प्रशस्ति) प्राप्त हुआ है, जिससे यहाँ  एक शिव मंदिर के निर्माण की पुष्टि होती है।
  • राजकुमारी ईश्वरा छगलेश वंश की राजकुमारी थी।

अन्य प्रमुख लेख 

  • मूर्तिपीठिका लेख – देवलगढ़, कुलसारी से प्राप्त (जतबाल देव)
  • त्रिशूल लेख – गोपेश्वर तथा बाडाहाट से अशोक चल्ल के लेख प्राप्त हुए है, जिसमें उत्कीर्ण लिपि शंख लिपि है।
  • कुषाण कालीन मुद्राएं – मुनी की रेती, सुमाड़ी से प्राप्त हुई है।
  • ईटों पर उत्कीर्ण लेख नैनीताल तथा बाडवाला देहरादून (शीलवर्मन) से मिले है ।
  • मन्दिरों की दीवारों पर उत्कीर्ण लेख गोपेश्वर, कालीमठ, केदारनाथ मठ से प्राप्त हुए है।
  • गुफाओं पर उत्कीर्ण लेख देवप्रयाग वामनगुहा तथा कल्पनाथ से प्राप्त हुए है।
  • मोरध्वज स्तूप से तीसरी सदी का मुद्रा लेख प्राप्त हुआ है।
  • बालेश्वर से क्राचल देव के शासनकाल का ताम्रपत्र प्राप्त हुआ है।
  • कत्यूरी शासनकाल की जानकारी पाण्डुकेश्वर ताम्रपत्र से मिलती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.