गढ़वाल से संबंधित प्रमुख तथ्य

गढ़वाल से संबंधित प्रमुख तथ्य (Part 1)

12 mins read
  • उत्तराखंड में वर्ष 1967 ई. में पर्वतीय राज्य परिषद का गठन किया गया।
  • कुणाल जातक द्वारा लिखित ग्रंथ में महात्मा गौतम बुद्ध के उषीर गिरी आने का उल्लेख मिलता है।
  • मलारी ग्राम में महापाषाणकालीन शवधानों की खोज शिव प्रसाद डबराल द्वारा की गयी, यहाँ से 5.2 किग्रा का मुकुट मिला है।
  • पंवार शब्द किस शासक द्वारा दिया गया था – सुदर्शन शाह
  • जाख मेला (रुद्रप्रयाग) में जलते हुए अंगारो पर नृत्य इस मेले की प्रमुख विशेषता है।
  • खड़दिया उत्तराखंड में संतान प्राप्ति के लिए पूजा अर्चना की एक रस्म है।
  • मंजघोशेश्वर महादेव मंदिर, पौड़ी में स्थित है, जिसमें काण्डा मेले का आयोजन किया जाता है।
  • चाली और भौर का संबंध मण्डान नृत्य (केदार नृत्य) से है।
  • गढ़वाल क्षेत्र में बीमारी से बचने के लिए सारा पर्व मनाया जाता था।
  • रुपमोहन सकलानी द्वारा गढ़वीर महाकाव्य की रचना की गयी थी।
  • उत्तराखण्ड के चमोली में मण्डुआ अनुसंधान केन्द्र स्थित है।
  • वर्ष 2004 में विश्व प्राकृतिक धरोहर केन्द्र की स्थापना देहरादून में की गयी थी।
  • मौलाराम द्वारा चन्द्रमुखी का चित्रण की रचना की गयी थी।
  • गौरी भांड वाला नगर कौन सा है – हरिद्वार
  • हिमालय महोत्सव (नोठा कौथिग) उत्तराखंड के चमोली  जिले में मनाया जाता है।
  • बुड़िया नृत्य, जौनसारी जनजाति से संबंधित है।
  • वर्ष 1968 में मोहन उप्रेती द्वारा दिल्ली में पर्वतीय कला केन्द्र की स्थापना की गयी थी।
  • मानवेन्द्र शाह (8 बार) उत्तराखण्ड से सर्वाधिक बार लोकसभा सदस्य के रूप में चुने जाने वाले सांसद है।
  • तीलू रौतेली की वीरोखाल के अलावा किस गांव में मूर्ति है – कांडा मल्लागांव 

उत्तराखंड के पद्मभूषण प्राप्त कर्ता है

  • चण्डी प्रसाद भट्ट,
  • कमलेन्दुमति शाह,
  • सत्य मित्रानन्द

उत्तराखंड के प्रथम ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्तकर्ता है – सुमित्रानन्दन पंत

उत्तराखंड के प्रथम रैमन मैग्सेस पुरस्कार प्राप्तकर्ता है – चण्डी प्रसाद भट्ट (1982 – पर्यावरण के लिए)

गढ़वाल क्षेत्र से उत्तराखंड विधानसभा में नियुक्त होने वाले प्रथम विधायक कुशलानन्द गैरोला थे।

उत्तराखंड में सर्वाधिक लंबे समय तक विधायक रहने वाले व्यक्ति थे – बलदेव सिंह आर्य 

पित्र शरण रतूड़ी उत्तराखण्ड के वह प्रथम व्यक्ति है, जो आजाद हिन्द फौज में कर्नल थे।

1 Comment

  1. कुणाल जातक के कौन से ग्रंथ मैं बुद्ध के उषीर गिरी आने का ?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!