उत्तराखंड से संबंधित प्रमुख तथ्य

उत्तराखंड से संबंधित प्रमुख तथ्य (Part 19)

14 mins read
  • कोठार बांध का निर्माण अल्मोड़ा जिले में कोसी नदी पर निर्मित किया गया है।
  • चूना पत्थर (Limestone) उत्तराखंड में सर्वाधिक मात्रा में पाया जाने वाला खनिज पदार्थ है।
  • आचार्य श्री राम शर्मा द्वारा हरिद्वार में शान्तिकुंज के की स्थापना की गयी थी।
  • उत्तराखंड के कुमाऊं का अल्मोड़ा जनपद, पिछौड़ा (रंग्वाली पिछौड़ी) के लिए प्रसिद्ध है।
  • वन अनुसंधान संस्थान (Forest Research Institute – FRI) के प्रवेश द्वार को ब्रेडिस गेट (Bredis Gate) कहा जाता है।
  • उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जनपद में कार्तिक स्वामी का मंदिर स्थित है।
  • उत्तराखंड के खटीमा (उधम सिंह नगर) में प्रतिवर्ष रामडोला मेले का आयोजन किया जाता है।
  • उरारी – थारू जनजाति में इस शब्द का अर्थ तलाक होता है।

IIT रूड़की

  • राज्य विधानसभा में अनुच्छेद 333 के अंतर्गत राज्यपाल द्वारा एक एंग्लो इंडियन समुदाय के व्यक्ति नियुक्ति की जा सकती है।
  • वर्ष 1847 में लार्ड डलहौजी द्वारा रुड़की में भारत के प्रथम इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापन स्थापना की गयी।
  • 21 सितंबर 2001 इस विश्वविद्यालय का नाम परिवर्तित कर भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की (IIT रूड़की) कर दिया गया।

भूली ए भूली

  • कौन सी गढ़वाली फिल्म अवैध खनन के खिलाफ लड़ रही बहन के लिए भाई की संघर्ष की कहानी है – भूली ए भूली
  • इस फिल्म का निर्देशन, नरेश खन्ना ने किया था।

हारूल नृत्य

  • हारूल नृत्य, जौनसारी जनजाति द्वारा किया जाने वाला एक प्रमुख नृत्य है
  • इस नृत्य की विषयवस्तु पाण्डवों के जीवन पर आधारित होती है  
  • हारूल नृत्य में करते समय रामतुला नामक वाद्ययंत्र मुख्य रूप से बजाया जाता है।

  • वर्ष 1906 में चिरंजीलाल शाह द्वारा कुमाऊंनी संस्कृति के प्रमुख केंद्र बिंदु हुक्का क्लब की स्थापना की गयी थी।
  • गढ़रत्न सम्मान, पर्यावरण के क्षेत्र में विशिष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों को प्रदान किया जाता है।
  • ललिता वैष्णव चन्दोला गढ़वाल की प्रथम महिला स्नातकोत्तर थी।
  • वर्ष 1909-10 के मध्य गढ़वाल राइफल के ज्ञान सिंह फर्स्वाण द्वारा लैंसडाउन से मॉस्को तक कि पैदल यात्रा की गयी थी।
  • ई. सेरमन ओकले (E. Sermn Oakley) द्वारा वर्ष 1905 में होली हिमालय नामक पुस्तक की रचना की गयी थी।
  • सधमन उत्तराखंड राज्य का एक पारंपरिक आभूषण है जिसे पैरों में पहना जाता है।
  • उत्तराखंड के चमोली जनपद में प्रतिवर्ष बंड विकास मेले का आयोजन किया जाता है।
  • फूलों की घाटी को इन्द्र का उपवन के नाम से भी जाना जाता है।
  • कुमाऊँ के दूसरे कमिश्नर ट्रेल द्वारा कुली बेगार प्रथा का हल निकालने के लिए खच्चर सेना का गठन किया गया था।
  • उत्तराखंड के उत्तरकाशी जनपद में भैरोझाप पहाड़ स्थित है।
  • मुस्लिम इतिहासकारों द्वारा तराई भाबर को दामन-ए-कोह नाम से संबोधित किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!