पुष्पोत्पादन (Floriculture)

पुष्पोत्पादन (Floriculture)

8 mins read

उद्यान विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत फूलों की खेती का अध्यन्न किया जाता है, पुष्पोत्पादन (Floriculture) कहलाता है। भारत में विभिन्न प्रकार की जलवायु होने के कारण वर्ष भर विभिन्न प्रकार के फूलों की खेती की जाती है।

  • भारत में सर्वाधिक मात्रा में गेंदा (Marigold) के फूल का उत्पादन होता है।

नीदरलैंड विश्व का सबसे बड़ा पुष्प उत्पादक राष्ट्र है, जो विश्व के लगभग 57% पुष्पों का उत्पादन करता है।

गुलदाऊदी (Chrysanthemum) और गेंदा (Marigold) के फूलों से पाइरैथ्रम (Pyrethrum) नामक पदार्थ प्राप्त किया जाता है। इस पदार्थ का उपयोग मच्छर मारने की दवा बनाने में किया जाता है।

मुग़ल शासकों द्वारा भारत में गुलाब, कारेनसन व नरगिस डेफोडिल्स को मध्य एशिया से लाया गया था।

बोन्साई (Bonsai)

बोन्साई (Bonsai) यह बड़े पौधों को छोटा व आकर्षक आकार देने की एक जापानी कला है, किन्तु इसकी खेती की शुरुआत, चीन में हुई थी। जापानी भाषा में बोन्साई (Bonsai) का अर्थ “बौने पौधों (dwarf plant)” है।

बोन्साई (Bonsai) विधि में पौधे को गमले में इस प्रकार उगाया जाता है कि वह अपने प्राकृतिक रूप में तो बने रहे किंतु आकार में बौने हो।


Note:

  • प्रत्येक वर्ष 26 जून को गुलाब दिवस के रूप में मनाया जाता है।
  • गुलाब को फूलों का राजा के नाम से भी जाना जाता है।
  • भारत में सर्वाधिक क्षेत्रफल पर चमेली के फूल (Jasmine flowers) की खेती की जाती है।
  • जर्मनी विश्व में फूलों का सबसे बड़ा आयातक राष्ट्र है, तथा USA फूलों का दूसरा सबसे बड़ा आयातक राष्ट्र है।
  • विश्व में प्रति व्यक्ति सर्वाधिक फूलों की खपत स्विट्ज़रलैंड (Switzerland) में होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!