कोरोनावायरस (COVID-19) का पशुओं पर प्रभाव

14 mins read

हाल ही में न्यूयॉर्क (Bronx Zoo) में कोरोनावायरस (COVID–19) से एक बाघ संक्रमित हुआ है, जिसके कारण, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने राष्ट्रीय उद्यानों / अभयारण्यों  के संबंध में एक सलाह जारी की है।

  • हाल ही में पेंच टाइगर रिजर्व (मध्य प्रदेश) में साँस की बीमारी से एक बाघ की मौत हो गई है। नेशनल टाइगर कंज़र्वेशन अथॉरिटी (NTCA) द्वारा बात की जांच की जा रही है कि बाघ कोरोनोवायरस से संक्रमित तो नहीं था।

प्रमुख बिंदु

मनुष्यों से जानवरों तक संक्रमण का फैलाव 

  • Bronx Zoo (न्यूयॉर्क) में एक कर्मचारी के माध्यम से यह वायरस बाघ में फैला दिया था।
  • यह वायरस एक पशु स्रोत से उत्पन्न हुआ और उत्परिवर्तित हुआ। इस प्रकार, यह वायरस मनुष्यों द्वारा प्रेषित होने के पश्चात कुछ प्रजातियों में जीवित रहने के लिए फिर से उत्परिवर्तन करना सैद्धांतिक रूप से संभव है।

पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा दी गयी सलाह  

  • पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा सभी राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों के सभी मुख्य वन्यजीव वार्डन (CWLW) को राष्ट्रीय उद्यानों / अभयारण्यों और बाघ अभयारण्यों में मनुष्यों से जानवरों और जानवरों से मनुष्यों में वायरस के प्रसार को रोकने के लिए तत्कालीन उपाय करने को कहा है।
  • CWLW एक सांविधिक प्राधिकारी है, जिसका गठन वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 के अंतर्गत किया गया है। CWLW राज्य वन विभाग के वन्यजीव विंग का प्रमुख होता है और राज्य के भीतर संरक्षित क्षेत्रों (protected areas) पर पूर्ण प्रशासनिक नियंत्रण रखता है।

NTCA और CZA द्वारा जारी दिशानिर्देश

  • केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण (Central Zoo Authority) और NTCA दोनों ने दिशानिर्देश जारी किए हैं कि चिड़ियाघर को “ज्यादा सतर्क, जानवरों की निगरानी और जानवरों के असामान्य व्यवहार और लक्षणों पर  24*7 घंटे कैमरों द्वारा निगरानी रखने की आवश्यकता है।
  • CZA द्वारा कर्मचारियों को व्यक्तिगत सुरक्षात्मक उपकरण पहनने तथा बीमार जानवरों को अन्य जानवरों से अलग रखने के   निर्देश दिए है।

केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण (Central Zoo Authority – CZA)

  • CZA एक सांविधिक निकाय है, जिसका गठन वर्ष 1992 में हुआ था। CZA का मुख्य उद्देश्य भारतीय चिड़ियाघरों में पशुओं के रखरखाव और स्वास्थ्य देखभाल के लिए न्यूनतम मानकों और मानदंडों को लागू करना है।
  • चिड़ियाघर को वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 के प्रावधानों के अनुसार विनियमित किया जाता है और राष्ट्रीय चिड़ियाघर नीति (National Zoo Policy), 1998 द्वारा निर्देशित किया जाता है।

राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (National Tiger Conservation Authority – NTCA)

  • NTCA पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के अधीन एक सांविधिक निकाय है।
  • इसका गठन टाइगर टास्क फोर्स (Tiger Task Force) की सिफारिशों के आधार पर दिसंबर, 2005 में किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!