Daily Current Affairs 21 feb 2018 – PIB & News

29 mins read

स्‍वच्‍छाग्रह-बापू को कार्यांजलि

वाराणसी के रचनात्‍मक एवं सांस्‍कृतिक उद्योगों की सराहना करने और उसके सांस्‍कृतिक रूपों का उपयोग करने के द्वारा स्‍वच्‍छता की आवश्‍यकता पर ध्‍यान केन्द्रित करने के लिए वाराणसी के मन मंदिर घाट और अस्‍सी घाट पर 21 एवं 22 फरवरी, 2018 को एक संस्‍कृति महोत्‍सव ‘स्‍वछाग्रह-बापू को कार्यांजलि’ का आयोजन किया जा रहा है।

प्रमुख बिंदु

  • यह महोत्‍सव नदी के तट के साथ मूर्त एवं अमूर्त विरासत को समेकित करेगा।
  • इसमें नदी एवं प्राचीन नगर के संरक्षण एवं सुरक्षा के लिए सांस्‍कृतिक अभिव्‍यक्तियों के उपयोग पर शिक्षाविदों, कलाकारों, कारीगरों, लेखकों, कवियों, पर्यावरणविदों एवं सास्‍कृतिक संगठनों की भागीदारी होगी।
  • स्‍वच्‍छता मुहिम का संचालन भारत सरकार के संस्‍कृति मंत्रालय के विवेचना केन्‍द्रों से संबद्ध स्‍कूली बच्‍चों द्वारा किया जाएगा, जो प्रदर्शनियों, गीतों, कठपुतली नृत्‍यों, नुक्‍कड़ नाटकों एवं लोक नृत्‍यों के माध्‍यम से अभिव्‍यक्‍त होगा।
  • स्‍वच्‍छताग्रह संगीत एवं नृत्‍य समारोह के दौरान वाराणसी की शास्‍त्रीय कलाओं का आयोजन मन मंदिर घाट पर निर्मित एक मंच पर किया जाएगा।
  • राष्‍ट्रीय आधुनिक कला दीर्घा बनारस हिन्‍दू विश्‍वविद्यालय के ललित कला विद्यालय के साथ साझेदारी में भारत सरकार के संस्‍कृति मंत्रालय द्वारा कई विद्यालयों में स्‍थापित सांस्‍कृति विवेचना केन्‍द्र के छात्रों के लिए चित्रकारी एवं टेराकोटा प्रतिमा कार्यशालाओं का आयोजन करेगा।

उत्तर प्रदेश निवेशक शिखर सम्‍मेलन

 

‘उत्तर प्रदेश निवेशक सम्मेलन  का आयोजन उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किया जा रहा है, जिसका उद्देश्‍य  राज्‍य में उपलब्‍ध निवेश अवसरों और संभावनाओं से निवेशकों को अवगत कराना है। यह सम्‍मेलन एक वैश्विक प्‍लेटफॉर्म उपलब्‍ध करायेगा जहां विभिन्‍न मंत्रीगण, कॉरपोरेट जगत की हस्तियां, वरिष्‍ठ नीति निर्माता, अंतर्राष्‍ट्रीय संस्‍थानों के प्रमुख और विश्‍व भर के शिक्षाविद इस राज्‍य में आर्थिक विकास को नई गति प्रदान करने और आपसी सहयोग को बढ़ावा देने के उद्देश्‍य से एकजुट होंगे।

प्रमुख बिंदु

  • इस आयोजन के लिए सात राष्‍ट्रों यथा फि‍नलैंड, नीदरलैंड, जापान, चेक गण्‍राज्‍य, थाईलैंड, स्‍लोवाकिया और मॉरीशस को ‘कंट्री पार्टनर’ के रूप में चिन्हित किया गया है।
  • इस योजना को केंद्र की स्किल इंडिया,  स्‍टैंडअप इंडिया, स्टार्ट अप इंडिया और प्रधानमंत्री मुद्रा योजना जैसी तमाम योजनाओं से लाभ मिलेगा।
  • प्रधानमंत्री किसान संपदा योजना से कृषि क्षेत्र में होने वाली बर्बादी को रोकने में मदद मिलेगी।
  • गन्‍ने की खेती होने के कारण राज्‍य में इथेनोल उत्‍पादन की अपार क्षमता है।
  • उत्‍तर प्रदेश में एक रक्षा औद्योगिक गलियारा बनाया जाएगा, जिससे बुंदेलखंड क्षेत्र के विकास में मदद मिलेगी।

अग्नि 2 मिसाइल

 

भारतीय सेना के स्ट्रैटेजिक फोर्सेज कमांड द्वारा ओडिशा के अब्‍दुल कलाम द्वीप (व्हीलर द्वीप) से अग्नि-2 मिसाइल का सफल परीक्षण किया। परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम इस मिसाइल की मारक क्षमता 2, 000 किमी से अधिक है।

प्रमुख बिंदु

  • अग्नि-2 मिसाइल भी अपने साथ 1000 किलो का भार ले जा सकती है
  • अग्नि-2 स्वदेश निर्मित 21 मीटर लम्बी  1 मीटर चौड़ी, 17 टन वजन की है।
  • अग्नि-2 मिसाइल स्वदेशी तकनीक से विकसित सतह से सतह पर मार करने वाली परमाणु मिसाइल है ।
  • यह ठोस इंजन आधारित मिसाइल तकनीक है।

भारत की ताकत से डरेगा दुश्‍मन 

  • अग्नि -I (700 Km की मारक क्षमता)
  • अग्नि- II (2,000 Km की मारक क्षमता)
  • अग्नि- III (3,000 Km की मारक क्षमता)
  • अग्नि- IV (4,000 Km की मारक क्षमता)
  • 26 दिसंबर, 2016 को भारत ने अग्नि- V का भी किया सफल परीक्षण (5,000 Km की मारक क्षमता)

भारत-मोरक्‍को रेलवे सहयोग 

 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने भारत-मोरक्‍को के नेशनल रेलवे  मंत्रालय ने रेल क्षेत्र में तकनीकी सहयोग के लिए विभिन्न देशों की सरकारों और राष्ट्रीय रेलवे के साथ समझौते को पूर्वव्यापी मंजूरी दे दी है।

तकनीकी सहयोग क्षेत्र :-

  • प्रशिक्षण और कर्मचारियों का विकास
  • विशेषज्ञ मिशन, अनुभव और कर्मियों का आदान-प्रदान
  •  विशेषज्ञों के आदान-प्रदान सहित आपसी तकनीकी सहायता

प्रमुख बिंदु

  • वर्तमान मार्गों की गति बढ़ाना
  • विश्व स्तर के स्टेशन विकसित करना
  • भारी वजन वाले सामान को ले जाना और रेलवे के बुनियादी ढांचे का आधुनीकीकरण
  • रिपोर्टों और तकनीकी दस्तावेजों के आदान-प्रदान

गंगा ग्राम और गंगोत्री स्वच्छ प्रतीक स्‍थल

 

केन्‍द्रीय पेयजल एवं स्‍वच्‍छता मंत्री उमा भारती ने  बागोरी में नई स्‍वजल परियोजना और उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले के डूंडा गांव में गंगोत्री स्‍वच्‍छ प्रतीक स्‍थल का शुभारंभ किया। जिसके अंतर्गत स्‍वच्‍छता सुनिश्चित होने के साथ-साथ गंगा किनारे स्थित गांवों में रहने वाले लोगों को बुनियादी सुविधाएं भी मिलेंगी।

प्रमुख बिंदु

  • बागोरी में 24  गांवों में शामिल है जिनका चयन इस वर्ष ‘गंगा ग्राम’ में तब्‍दील करने के लिए किया गया है।
  • उत्तरकाशी के गंगा जलग्रहण क्षेत्र में 1.5 लाख से भी ज्‍यादा पौधे लगाए जाएंगे।
  • केन्‍द्रीय मंत्री ने स्‍वच्‍छ प्रतीक स्‍थल के रूप में गंगोत्री का भी शुभारंभ किया।

 

Source : PIB , Danik Jagran & PMO India

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!