CTET July 2013 – Paper – I (Hindi Language) Answer Key

45 mins read

परीक्षा (Exam) – CTET Paper I Primary Level (Class I to V)
भाग (Part) –  Part – IV (Hindi Language)
परीक्षा आयोजक (Organized) – CBSE
कुल प्रश्न (Number of Question) – 30
परीक्षा तिथि (Exam Date) –  July 2013


निर्देशः नीचे दिए गए गद्यांश को पढ़कर सबसे उचित विकल्प का चयन कीजिए:

समाज में पाठशालाओं, स्कूलों अथवा शिक्षा की दूसरी दुकानों की कोई कमी नहीं है। छोटे-से-छोटे बच्चे को माँ-बाप स्कूल भेजने की जल्दी करते हैं। दो-ढाई साल के बच्चे को भी स्कूल में बिठाकर आ जाने का आग्रह भी हर घर में बना हुआ है।

इसके विपरीत हर घर की दूसरी सच्चाई यह भी है कि कोई भी माँ-बाप बालकों के बारे में, बालकों की सही शिक्षा के बारे में और साथ ही सच्चा एवं अच्छा माता-पिता अथवा अभिभावक होने का शिक्षण कहीं से भी प्राप्त नहीं करता। माता-पिता बनने से पहले किसी भी नौजवान जोड़े को यह नहीं सिखाया जाता है कि माँ-बाप बनने का अर्थ क्या है? इससे पहले किसी भी जोड़े को यह भी नहीं सिखाया जाता कि अच्छे और सच्चे दाम्पत्य की शुरुआत कैसे की जानी चाहिए? पति-पत्नी होने का अर्थ क्या है? यह भी कोई नहीं बताता। परिणाम साफ है कि जीवन शुरू होने से पहले ही घर टूटने-बिखरने लगते हैं। घर बसाने की शाला न आज तक कहीं खुली है और न खुलती दिखती है। समाज और सत्ता दोनों या तो इस संकट के प्रति सजग नहीं है या फिर इसे अनदेखा कर रहे हैं।

91. लेखक के लिए किसका शिक्षण प्राप्त करना जरूरी है?
A. बच्चों को किसी भी प्रकार की शिक्षा देने का
B. अच्छे माता-पिता बनने का
C. छोटे-छोटे बच्चों को उच्च विद्यालयों में प्रवेश दिलाने का
D. पति-पत्नी बनने का

92. माता-पिता को बच्चों की सही शिक्षा के बारे में जानना क्यों जरूरी है?
A. ताकि बच्चों को उच्च डिग्रियाँ प्राप्त करवाई जा सकें।
B. ताकि बच्चे स्वयं प्रवेश लेने योग्य बन सकें।
C. जिससे बेहतर समाज का निर्माण किया जा सके।
D. बच्चों को ज्ञानवान बनाया जा सके।

93. समाज और सत्ता किसके प्रति सजग नहीं है?
A. ज्ञानवान समाज न बन पाने के घोर संकट के प्रति.
B. घर बसाने की शिक्षा देने वाली शाला खोलने के प्रति
C. माता-पिता द्वारा बच्चों का पालन-पोषण न करने के प्रति
D. अभिभावकों के द्वारा शिक्षा प्राप्त न करने के प्रति

94. लेखक के अनुसार सबसे पहले क्या जानना जरूरी है?
A. बच्चों के बारे में
B. बच्चों की शिक्षा के बारे में
C. माता-पिता के शिक्षा-स्तर को
D. दाम्पत्य की शुरुआत कैसे की जानी चाहिए

95. ‘माता-पिता’ शब्द-युग्म है
A. सार्थक शब्द-युग्म
B. निरर्थक शब्द-युग्म
C. पुनरुक्त शब्द-युग्म
D. सार्थक-निरर्थक शब्द-युग्म

96. ‘भी’ शब्द है
A. क्रियाविशेषण
B. संबंधवाचक
C. निपात
D. क्रिया

97. ‘इसके विपरीत हर घर की दूसरी सच्चाई यह भी है कि ….’ वाक्य के रेखांकित अंश का समानार्थी शब्द है। A. वास्तविक
B. वास्तविकता
C. सदवचन
D. सूक्ति

98. घर के टूटने-बिखरने का मुख्य कारण क्या है?
A. माता-पिता बनने का अर्थ न जानना
B. दाम्पत्य का अर्थ न जानना
C. घर बसाने की जल्दी करना
D. बच्चों के बारे में न जानना

99. हर घर में किस चीज का आग्रह बना हुआ है?
A. बहुत छोटे बच्चे को स्कूल में पढ़ाने का
B. बहुत छोटे बच्चे को दुकान भेजने का
C. बहुत छोटे बच्चे को स्कूल में बिठाकर आने का
D. बच्चों को स्कूल न भेजने का

निर्देश : नीचे दी गई पंक्तियों को पढ़कर सबसे उचित विकल्प का चयन कीजिए:

पूछो किसी भाग्यवादी से,
यदि विधि-अंक प्रबल है।
पद पर क्यों देती न स्वयं
वसुधा निज रतन उगल है?

100. कवि के अनुसार यदि भाग्य ही सब कुछ होता तो क्या होता?
A. रत्न मिल जाते।
B. पैरों के नीचे वसुधा होती।
C. धरती स्वयं ही रत्न रूपी संपत्ति उगल देती।
D. रल स्वयं प्रकाश युक्त हो उठते।

101. तुकबंदी के कारण कौन-सा शब्द बदले हुए रूप में प्रयुक्त हुआ है?
A. रतन
B. प्रबल
C. स्वयं
D. उगल

102. इनमें से कौन-सा ‘वसुधा’ का समानार्थी है?
A. वसुंधरा .
B. महीप
C. वारिधि
D. जलधि

103. ‘प्र’ उपसर्ग से बनने वाला शब्द-समूह है
A. प्रत्येक, प्रभाव, प्रदेश
B. प्रसाद, प्रत्येक, प्रपत्र
C. प्रभाव, प्रदेश, प्रपत्र
D. प्रत्युत्तर, प्रदेश, प्रपत्र

104. कवि ने किसकी महिमा का खंडन किया है?
A विधि के विधान का
B. भाग्यवाद का
C. वसुधा का
D. रतनों का

105. विधि-अंक से तात्पर्य है
A. न्याय-अंक
B. ‘विधाता’ लिखा होना
C. भाग्य का लिखा हुआ
D. न्यायवादी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!