CTET January 2021 – Paper II (Hindi Langauge I) Answer Key

38 mins read

परीक्षा (Exam) – CTET Paper II Primary Level (Class VI to VII) 
भाग (Part) – Part I – Hindi Language I
परीक्षा आयोजक (Organized) – CBSE
कुल प्रश्न (Number of Question) – 30
परीक्षा तिथि (Exam Date) – 31st January 2021 (2nd Shift)


91. ‘व्यंग्य किया’ का सबसे उपयुक्त अर्थ होगा –
(1) डाँट लगाई
(2) ताना मारा
(3) उपहास किया
(4) निकाल दिया

92. पौष्टिक खुराक’ में दोनों शब्द हैं, क्रमश:
(1) देशज – आगत
(2). तत्सम -आगत
(3) तत्सम – तद्भव
(4) तद्भव – तत्सम

93. ‘तुम्हें कौन-सा खेलों में भाग लेना है …….’ भावार्थ की दृष्टि से देखें तो उपर्युक्त वाक्य है –
(1) प्रश्नार्थक वाक्य
(2) विधानार्थक वाक्य
(3) ‘निषेधार्थक वाक्य
(4) विस्मयार्थक वाक्य

94. लड़की के सवाल पूछने पर छात्र हंस पड़े, क्योंकि लड़की
(1) खेलना नहीं चाहती थी।
(2) बहुतं छोटी थी।
(3) खेलना नहीं जानती थी।
(4) खेल नहीं सकती थी।

95. आपके विचार से लड़की को सफलता की सबसे बड़ी प्रेरणा किसने दी?
(1) उसकी माँ ने
(2) उसके प्रशिक्षक ने
(3) उसके शिक्षक ने
(4) उसके सहपाठियों ने

96. शिक्षक के उत्तर से उसके बारे में धारणा बनती है कि वह -जोर था।
(1) कठोर था।
(2) हितैषी था।
(3) सत्यवादी था।
(4) प्रेरक था।

97. लड़की के अनुसार सब कुछ संभव है, यदि हो
(1) कठोर परिश्रम और सबल शरीर
(2) बुलंद हौसला और ईश्वर की कृपा
(3) सच्ची प्रेरणा और अच्छा प्रशिक्षक
(4) सच्ची लगन और ऊँचा इरादा

98. गधांश में निहित मुख्य संदेश है.
(1) सफलता के लिए लगन और परिश्रम आवश्यक है।
(2) शारीरिक अक्षमता वाले लोगों को अधिक परिश्रम करना पड़ता है।
(3) किसी का मज़ाक उड़ाना ठीक नहीं ।
(4) शिक्षक को दयालु होना चाहिए।

99. ‘आश्चर्य-चकित’ का विग्रह होगा –
(1) आश्चर्य से चकित
(2) आश्चर्य है जो चकित
(3) आश्चर्य में चकित
(4) आश्चर्य और चकित

निम्नलिखित काव्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों (प्रश्न सं. 100 से 105 तक) के सबसे उपयुक्त उत्तर वाले विकल्प को चुनिए :

दिशाएँ निमंत्रण मुझे दे रही हैं,
सफलता का यह द्वार मेरे लिए है ।।
न अवरोध कोई न बाधा कहीं है,
न संदेह कोई न व्यवधान कोई।।
अटल एक विश्वास मन में भरा है,
नहीं पथ-डगर आज अनजान कोई ।।
हृदय में कहीं कह रहा बात कोई,
धरा औ गगन सिर्फ़ तेरे लिए है ।।
नहीं कुछ यहाँ जो मुझे रोक पाए,

100. व्याकरण की दृष्टि से ‘इंद्रधनुषी’ शब्द है –
(1) विशेषण
(2) क्रियाविशेषण
(3) संज्ञा
(4) सर्वनाम

101. अर्थ की दृष्टि से शेष से भिन्न शब्द पहचानिए –
(1) व्यवधान
(2) बाधा
(3) डगर
(4) अवरोध

102. कविता का केंद्रीय स्वर है –
(1) सुनसानी और अनजानापन
(2) कर्म और प्रेरणा
(3) उत्साह और आत्मविश्वास
(4) बाधाएँ और विघ्न

103. दिशाएँ कवि को क्यों बुला रही हैं ?
(1) संदेह दूर करने के लिए
(2) सफलता प्राप्त करने के लिए
(3) कविता पाठ करने के लिए
(4) अनजान रास्तों से बचने के लिए

104. कवि को अपनी सफलता पर अटल विश्वास क्यों
(1) उसे रोक-टोक करने वाला कोई नहीं है ।
(2) सफलता पाना बहुत सरल है।
(3) उसे कोई रुकावट नहीं दिखाई देती ।
(4) दिशाएँ उसे बुला रही हैं।

105. किस पंक्ति से प्रतीत होता है कि कवि का व्यक्तित्व बदल गया है ?
(1) नहीं कुछ यहाँ जो मुझे रोक पाए।
(2) मुझे आज लगता कि मैं वह नहीं हूँ।
(3) अटल एक विश्वास मन में भरा है।
(4) अजानी हवा में बहे जा रहा हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.