CTET February 2014 – Paper – I (Hindi Language) Answer Key

46 mins read

परीक्षा (Exam) – CTET Paper I Primary Level (Class I to V)
भाग (Part) –  Part – IV (Hindi Language)
परीक्षा आयोजक (Organized) – CBSE
कुल प्रश्न (Number of Question) – 30
परीक्षा तिथि (Exam Date) –  February 2014


निर्देश (प्र.सं. 91 से 99 तक) : नीचे दिए गए गद्यांश को पढ़कर सबसे उचित विकल्प का चयन कीजिए:

शिक्षा की बैंकीय अवधारणा (बैंकिंग कॉनसेप्ट) में ज्ञान एक उपहार होता है, जो स्वयं को ज्ञानवान समझने वालों के द्वारा उनको दिया जाता है, जिन्हें वे नितान्त अज्ञानी मानते हैं। दूसरों को परम अज्ञानी बताना उत्पीड़न की विचारधारा की विशेषता है। वह शिक्षा और ज्ञान को जिज्ञासा की प्रक्रिया नहीं मानती। शिक्षक अपने छात्रों के समक्ष स्वयं को एक आवश्यक विलोम के रूप में प्रस्तुत करता है, उन्हें परम अज्ञानी मानकर वह अपने अस्तित्व का औचित्य सिद्ध करता है। छात्र, हेगेलीय द्वन्द्ववाद में वर्णित दासों की भाँति, अलगाव के शिकार होने के कारण अपने अज्ञान को शिक्षक के अस्तित्व का औचित्य सिद्ध करने वाला समझते हैं लेकिन इस फर्क के साथ कि दास तो अपनी वास्तविकता को जान लेता है (कि मालिक का अस्तित्व उसके अस्तित्व पर निर्भर है) लेकिन ये छात्र अपनी इस वास्तविकता को कभी नहीं जान पाते कि वे भी शिक्षक को शिक्षित करते हैं।

91. शिक्षा की बैंकीय अवधारणा शिक्षा को किस रूप में प्रस्तुत करती है?
A. शिक्षा की प्रक्रिया में केवल परम अज्ञानी शामिल होते हैं।
B. शिक्षा ज्ञान के लेन-देन की प्रक्रिया है
C. शिक्षा में केवल छात्र शिक्षकों को शिक्षित करते हैं ।
D. शिक्षा में उपहारों का लेन-देन होता है

92. गद्यांश के अनुसार छात्र अपनी किस वास्तविकता को नहीं जान पाते?
A. शिक्षक ज्ञानवान है
B. शिक्षा में ज्ञान ही सर्वोपरि है
C. शिक्षक पूर्णतः शिक्षित नहीं है
D. वे अज्ञानी हैं

93. इस गद्यांश के अनुसार शिक्षा की प्रक्रिया सम्पन्न होने के लिए अनिवार्य शर्त है
A. शिक्षक की उपस्थिति
B. शिक्षक का परम ज्ञानवान होना
C. छात्र का परम अज्ञानी होना
D. छात्रों का सीखने के लिए उत्सुक होना

94. गद्यांश के अनुसार उत्पीड़न की विचारधारा की विशेषता क्या है?
A शिक्षा ज्ञान का उपहार है.
B. शिक्षक ‘श्रेष्ठ’ है और छात्र ‘हीन’ है
C. आदर्श शिक्षक सदैव उत्पीड़क होता है
D. परम अज्ञानियों का शोषण अनिवार्य है

95. गद्यांश में ………. पर करारा व्यंग्य किया गया है।
A. ज्ञानवान व्यक्तियों
B. उत्पीड़ितों की दशा
C. शिक्षितों की दशा
D. शिक्षक और छात्र के मध्य सम्बन्ध

96. “जिज्ञासा’ शब्द से बनने वाला विशेषण है
A. जिज्ञासी
B. जिज्ञासावाला
C. जिज्ञासु . .
D. जिज्ञासाशील

97. किस शब्द में दो प्रत्ययों का प्रयोग हुआ है?
A. वास्तविकता
B. ज्ञानवान
C. विशेषता
D. विचारधारा

98. प्रस्तुत गद्यांश में ‘नितांत’ शब्द का अर्थ है
A. केवल
B. एकान्त
C. बहुत
D. बिल्कुल

99. “उन्हें परम अज्ञानी मानकर वह अपने अस्तित्व का औचित्य सिद्ध करता है।” रेखांकित शब्द की जगह किस शब्द का प्रयोग किया जा सकता है?
A. प्रमाणित’
B. प्रतिफलित
C. अंतर्निहित
D. प्रतिस्थापना

निर्देश (प्र.सं. 100 से 114 तक) : सबसे उचित विकल्प का चयन कीजिए

100. कहानी, कविता, गीतों और नाटकों के माध्यम से बने
A. केवल मूल्यों का अर्जन करते हैं
B. केवल अपनी तर्कशक्ति का विकास करते हैं:
C. अपनी सांस्कृतिक धरोहर से जुड़ते हैं
D. केवल मनोरंजन प्राप्त करते हैं

101. प्राथमिक स्तर पर बच्चों को भाषा सिखाने का सर्वोपरि
A. मुहावरे-लोकोक्तियों का ज्ञान प्राप्त करना
B. कहानी-कविताओं को दोहराने की कुशलता का विकास
C. तेज प्रवाह के साथ पढ़ने की योग्यता का विकास करना
D. अपनी बात को दूसरों के समक्ष अभिव्यक्त करने की कुशलता का विकास करना

102. लिखना
A. एक बेहद जटिल प्रक्रिया है।
B. एक अनिवार्य कुशलता है, जिसे जल्दी प्राप्त किया जाना है ।
C. एक तरह की बातचीत है
D. एक अत्यन्त यांत्रिक प्रक्रिया है .

103. कक्षा ‘एक’ के बच्चे अपने …… एवं ……… से प्राप्त बोलचाल की भाषा के अनुभवों को लेकर ही विद्यालय आते हैं। .
A. घर-परिवार, पड़ोसी
B. घर-परिवार, परिवेश
C. घर-परिवार, दोस्तों
D. घर-परिवार, टी.वी.

104. कक्षा ‘एक’ और ‘दो’ के शुरूआती समय में पढ़ने का प्रारंभ …….. से हो और किसी …….. के लिए हो।
A. अर्थ, उद्देश्य
B. अक्षर-ज्ञान, मनोरंजन
C. शब्द-पहचान, मूल्यांकन
D. अक्षर-ज्ञान, उद्देश्य

105. इनमें से कौन-सा प्राथमिक स्तर पर हिन्दी भाषा शिक्षण का उद्देश्य नहीं है?
A. सन्दर्भ के अनुसार अनुमान लगाकर पढ़ने का प्रयास
B. चित्रकारी को स्वयं की अभिव्यक्ति का माध्यम बनाना
C. बच्चों की घर की भाषा और स्कूल की भाषा में सम्बन्ध हुए उसे विस्तार देना
D. सुनी गई बातों को ज्यों का त्यों दोहराना

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!