लोक सभा की शक्तियां और कार्य

लोकसभा संसद का निम्न सदन है। किन्तु वह राज्यसभा से अधिक शक्तिशाली है। यह जनता का वास्तविक प्रतिनिधित्व करने वाला सदन है। इसकी शक्तियों एवं कार्यों  निम्नलिखित रूप में उल्लेखित है- लोकसभा का गठन (Formation of Lok Sabha) लोकसभा के अध्यक्ष (Speaker of the Lok

Continue Reading..

लोकसभा का गठन (Formation of Lok Sabha)

भारतीय शासन प्रणाली का दूसरा आधार स्तम्भ संघीय विधायिका या संसद (Legislature or parliament) है। इसका उपबंध संविधान के भाग-5, में अनुच्छेद 79 से 123 के अन्तर्गत किया गया है। संविधान के अनुच्छेद-79 में कहा गया है, ‘संघ के लिए एक संसद होगी जो राष्ट्रपति और दो सदनों से मिलकर बनेगी, जिनके नाम क्रमशः ‘राज्य

Continue Reading..

संविधान सभा की मांग व गठन

संविधान सभा की मांग सर्वप्रथम वर्ष 1934 में वामपंथी आंदोलन के प्रखर नेता M. N. Roy ने भारत में संविधान सभा के गठन का विचार रखा। वर्ष 1935 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (Indian National Congress) ने पहली बार आधिकारिक रूप से भारत में संविधान सभा के गठन की मांग की। वर्ष

Continue Reading..
/

नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill – CAB) 2019

संसद ने नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill – CAB), 2019 पारित कर दिया है। विधेयक में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धर्म के आधार पर उत्पीड़न का सामना करने के बाद पलायन करके भारत आए हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदायों के

Continue Reading..
/

विधायी निकायों में एंग्लो-इंडियन का आरक्षण की समाप्ति

हाल ही में, केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा विधायी निकायों में एंग्लो-इंडियन के लिए आरक्षण को हटाने को मंजूरी दी है। लोकसभा में एंग्लो-इंडियन समुदाय के लिए दो सीट और राज्यसभा में एक मनोनीत सीट आरक्षित की गयी है, ताकि निर्वाचित विधायी निकायों में एंग्लो-इंडियन  समुदाय का

Continue Reading..
/

राज्यसभा में सुधार की मांग

हाल ही में, संसद सदस्यों ने राज्यों के लिए समान प्रतिनिधित्व और राज्यसभा में बोलने के लिए अधिक समय की मांग की है। राज्यों का प्रतिनिधित्व राज्यसभा (उच्च सदन) राज्यों की परिषद है और इस प्रकार यह सभी राज्यों के लिए समान प्रतिनिधित्व के माध्यम

Continue Reading..
/

मौलिक कर्तव्यों के प्रति जागरूकता

भारत सरकार द्वारा अपने विभिन्न मंत्रालयों को लोगों के बीच मौलिक कर्तव्यों के बारे में जागरूकता फैलाने के काम के साथ नियोजित करने की योजना बना रही है। भारतीय संविधान में मौलिक कर्तव्यों (Fundamental duties) का विचार रूस के संविधान से प्रेरित होकर लिया गया

Continue Reading..

भारत के राष्ट्रीय प्रतीक (National Emblem of India)

राष्ट्र ध्वज (National Flag) – भारतीय संविधान सभा द्वारा राष्ट्रीय ध्वज (तिरंगे) का प्रारूप 22 जुलाई 1947 को अपनाया गया। राष्ट्रीय ध्वज की  चौड़ाई तथा लंबाई का अनुपात 3:2 होता है। राष्ट्रीय ध्वज (National flag) में केसरिया (saffron), सफेद (white) और हरे (green) रंग की तीन

Continue Reading..

भारतीय संविधान की अनुसूचियां

मूल रूप से भारतीय संविधान में 8 अनुसूचियां थी, किन्तु वर्त्तमान में कुल 12 अनुसूचियां हैं जो निम्नलिखित हैं – प्रथम अनुसूची (First Schedule) – इसके अंतर्गत भारतीय संघ में शामिल राज्यों तथा संघ शाषित क्षेत्रों (Union Territories) का उल्लेख है, जिनकी संख्या क्रमश: 29 तथा 8

Continue Reading..

भारतीय संविधान के प्रमुख स्रोत (Major sources of Indian constitution)

भारत शासन अधिनियम (Government of India Act – 1935) – भारतीय संविधान का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत भारत शासन अधिनियम -1935 है, जिसका भारतीय संविधान के आकार, विषय सूची तथा भाषा पर अत्यधिक प्रभाव पड़ा  है। ब्रिटिश संविधान (British Constitution) – एकल नागरिकता (Single citizenship), संसदीय

Continue Reading..