कर्नाटक संगीत (Carnatic music)

25 mins read

हाल ही में, S सौम्या को कर्नाटक संगीत के लिए संगीता कलानिधि पुरस्कार (Sangeeta Kalanidhi Award) से सम्मानित किया गया।

भारतीय शास्त्रीय संगीत को मुख्यत: दो भागो में विभाजित किया गया है –

  • हिंदुस्तानी संगीत – यह मुख्य रूप से उत्तर भारत में प्रचलित
  • कर्नाटक संगीत – यह मुख्य रूप से दक्षिणी भारत में प्रचलित है।

कर्नाटक संगीत का उद्भव

कर्नाटक संगीत (Carnatic music) एक  प्राचीन दक्षिण भारतीय शास्त्रीय संगीत है, जिसका उद्भव लगभग 2500 वर्ष पूर्व हुआ था। कर्नाटक संगीत का नाम संस्कृत शब्द कर्णटाका संगम पर पड़ा है, जो “पारंपरिक” या “संगीतबद्ध” संगीत को दर्शाता है।  कर्नाटक संगीत के दो प्रमुख तत्व निम्नलिखित है  –

  • ‘राग’
  • ‘ताल’

कर्नाटक संगीत का उद्भव दक्षिण भारतीय राज्यों तमिलनाडु, केरल, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में हुआ है। ये राज्य द्रविड़ संस्कृति की अपनी मजबूत प्रस्तुति के लिए जाने जाते हैं।

कर्नाटक संगीत का पुनर्जागरण

भारतीय संगीत के विकास के दौरान हिंदुस्तानी और कर्नाटक संगीत के रूप में दो अलग-अलग उप-प्रणालियों का उदय हुआ। दोनों ही शब्द सर्वप्रथम हरिपाल की “संगीता सुधाकर” में उभरे, जो 14 वीं शताब्दी में लिखे गए

मुस्लिमों के आगमन के पश्चात, विशेष रूप से मुगल सम्राटों के शासनकाल के बाद दो अलग-अलग शैलियों, का प्रचलन हुआ जो निम्नलिखित है –

  • हिंदुस्तानी संगीत
  • कर्नाटक संगीत

पुरंदर दास (1484-1564), विजयनगर के एक प्रसिद्ध संगीतकार और रहस्यवादी कवि थे, इन्हें कर्नाटक संगीत का पिता (कर्नाटक संगीत पितामाह) माना जाता है।

वेंकटमखी को कर्नाटक संगीत का भव्य सिद्धांतकार माना जाता है। 17 वीं शताब्दी ई. में, उन्होंने “मेलाकार्टा (Melakarta)” विकसित किया, जो दक्षिण भारतीय रागों को वर्गीकृत करने की प्रणाली थी। वर्तमान में 72  पैमाना / मेलाकार्टा (Melakarta)” हैं।

त्यागराज (1767-1847), और उनके समकालीन श्यामा शास्त्री और मुत्तुस्वामी दीक्षित को एक साथ कर्नाटक संगीत के “ट्रिनिटी (Trinity)” के रूप में जाना जाता है।

कर्नाटक संगीत के रूप

  • गीतम (Gitam) – यह राग की आसान और मधुर प्रवाह के साथ सबसे सरल प्रकार की रचना है।
  • सुलाड़ी (Suladi) – सुलाड़ी (Suladi) एक तालमालिका है, अर्थात विभिन्न तालों में होने वाले अनुभव।
  • स्वराजति (Svarajati) – इसमें तीन खंड होते हैं, जिन्हें पल्लवी, अनुपालवी और चरणम कहा जाता है। इसकी थीम भक्तिपूर्ण, वीरशील या प्रणय शील है।
  • जतिस्वरम (Jatiswaram) – यह लयबद्ध उत्कृष्टता और जति पैटर्न के उपयोग के लिए जाना जाता है।
  • वर्णम (Varnam) – यह एकमात्र रूप है जो हिंदुस्तानी संगीत में एक समकक्ष नहीं मिलता है। इस रूप को वर्णम (Varnam) कहा जाता है क्योंकि प्राचीन संगीत में ’वर्ण’ नामक स्वरा समूह के कई पैटर्न इसकी बनावट में परस्पर जुड़े हुए हैं।
  • कीर्तनम (Kirtinam) – यह भक्ति सामग्री या साहित्य के भक्ति भाव के लिए मूल्यवान है।
  • कृति (Kriti) – यह कीर्तनम से विकसित हुई। यह संगीत का एक अत्यधिक विकसित  रूप है।
  • पल्लवी (Pallavi) – यह रचनात्मक संगीत की सबसे महत्वपूर्ण शाखा है। यह कामचलाऊ व्यवस्था की अनुमति देता है।

17वीं – 19वीं शताब्दी के कुछ प्रमुख कर्नाटक संगीतकार हैं:

  • पापनसा मुदलियार (Papanasa Mudaliar)
  • पेडाला गुरुमूर्ति शास्त्री (Pedala Gurumurthy Shastri)
  • मारीमुत्थु पिल्लई (Marimuthu Pillai)
  • त्यागराज (Tyagaraja)
  • मुथुस्वामी दीक्षिता (Muthuswamy Deekshitha)
  • वीना कुप्पेय्यार (Veena Kuppayyar)

19वीं – 20वीं शताब्दी के कुछ प्रमुख कर्नाटक संगीतकार 

  • मैसूर सदाशिव राव (Mysore Sadashiv Rao)
  • अनय–अइय्या (Anay–Aiyya)
  • कोटेस्वरा अय्यर (Koteswara Iyer)
  • हरिकेसनल्लुर मुथैया भागवतार (Harikesanallur Muthiah Bhagwatar)
  • मयूरम विश्वनाथ शास्त्री (Mayuram Vishwanath Shastri)
  • दांदापनी देसीकर (Dandapani Desikar)

 प्रमुख आधुनिक कर्नाटक संगीतकार 

एम.एल. वसंतकुमार  (M.L Vasantkumar), एम.एस. सुब्बुलक्ष्मी (M.S Subbulakshmi), मुथैया भागवतार (Muthaiya Bhagwatwar), मदुरई मनी अय्यर (Madurai Money Iyer), टी.एन. सेशगोपालन (T.N Seshagopalan), के.जे. युसूदास (K.J. Yusudas), अरुणा साईराम (Aruna Sairam), उन्नी कृष्णन (Unni Krishnan), रामचंद्रन (Ramachandran), ओ.एस. थ्यागराजन (O.S. Thyagarajan), ओ.एस. अरुन (O.S. Arun) आदि।

कर्नाटक संगीत के प्रमुख ग्रंथ

संगीत ग्रंथ (Music book)संगीतकार (Musician)
संगीता रतनकारा (Sangeeta Ratankara)सर्नगादेव
संगीता संप्रदाय प्रदर्शिनी (Sangeetha Sampradaya Varshini)सुब्बाराम दीक्षितार (Subbaram Dixitar)
स्वारामेला कलानिधि (Swaramela Kalanidhi)राममात्या (Ramamatya)
नाट्य शास्त्र (Natya Shastra)भरत मुनी (Bharata Muni)
संगीता सुधा (Sangeeta Sudha)गोविंदा दीक्षितार (Govinda Dixitar)

कर्नाटक और हिन्दुस्तानी संगीत के मध्य अंतर

  • कर्नाटक संगीत की उत्पत्ति दक्षिण भारत में हुई जबकि हिंदुस्तानी संगीत उत्तर भारत में।
  • यह माना जाता है कि 13 वीं शताब्दी से पहले भारत का संगीत लगभग एक समान था।
  • कर्नाटक संगीत में समरूपता है और हिंदुस्तानी संगीत में एक विषम भारतीय परंपरा है।
  • कर्नाटक संगीत में अधिक धर्मनिरपेक्ष हिंदुस्तानी परंपराओं की तुलना में संयमित और बौद्धिक चरित्र है।
  • हिंदुस्तानी संगीत के प्रमुख मुखर रूप ध्रुपद, ख्याल, तराना, ठुमरी, दादरा और गजल हैं। जबकि कर्नाटक संगीत में कई तरह की विधाएँ हैं जैसे कि अलापाना, निरावल, कल्पनस्वरम, थानम और रागम थनम पल्लवी।
  • हिंदुस्तानी संगीत में लखनऊ, जयपुर, किराना, आगरा आदि विभिन्न घराने हैं, जबकि कर्नाटक संगीत में ऐसा कोई भी घराना नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!