जन्तु-जगत का वर्गीकरण

जन्तु-जगत का वर्गीकरण

35 mins read

जीव संरचना के स्तर के आधार पर जंतु जगत का वर्गीकरण

  1. कोशिकीय स्तर
  2. ऊतक स्तर
  3. अंग स्तर
  4. अंग तंत्र स्तर

आधुनिक वर्गीकरण

जन्तु-जगत का वर्गीकरण

बहुकोशिकीय (मेटाजोआ जगत)

मेटाजोआ जगत या पोरीफेरा

  • रॉबर्ट ग्राण्ट ने 1825 ई. में पोरीफरा शब्द का प्रयोग किया था।
  • बहुकोशिकीय जलीय, द्विस्तरीय, शरीर पर असख्य छिद्र, अनियमित आकृति एवं पुनरूद्भवन (Regeneration) की क्षमता वाले जीव होते हैं। इनका शरीर ऊतकहीन और संवेदनहीन होता है। जैसे – साइकन, यूस्पंजिया, स्पंजिला, यूप्लेक्टेला आदि ।
  • यूप्लेक्टेला को ‘वीनस के फूलों की डलिया’ कहा जाता है।
  • स्पंजिला मीठे पानी में पाया जाने वाला स्पंज है।
  • यूस्पांजिया स्नान स्पंज कहलाता होता है।

सीलेन्ट्रेटा या निडेरिया

  • इस शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम लूकर्ट ने 1847 में किया था। ये द्विस्तरीय, जलीय प्राणी होते हैं।
  • इनके शरीर में थैले जैसी एक ही गुहा (पाचन) पाई जाती है, जिसे अंतरगुहा (Coelenterom) कहते हैं।
  • इनमें नेत्रबिन्दु या स्टेटोसिस्ट पाये जाते हैं।
  • पॉलिपॉएड चूनेदार अस्थि का निर्माण करते हैं जिसे कोरल कहते हैं। इसके लार्वा को ‘प्लेनुला’ कहते हैं। जैसे – हाइड्रा, ओबीटिया, सी एनीमोन, फजिया, मीण्डा आदि।
  • हाइड्रा में अमरत्व का गुण पाया जाता है।
  • ऑरेलिया को जेलीफिश (Jelly Fish) कहा जाता है।
  • मेट्रीडियम (Metridium) को सी-एनीमोन भी कहते हैं।
  • गोर्गोनिया (Gorogonia) को समुद्री पंखा कहा जाता है।
  • फाइसेलिया (Physalia) को आमतौर पर पुर्तगाली युद्धपोत कहा जाता है।

प्लेटीहैल्मन्थीज

  • इस शब्द का प्रयोग गीगेनबार ने 1899 में किया था। ये प्राणी त्रिस्तरीय, अंतःपरजीवी और उभयलिंगी होते हैं।
  • इनमें उत्सर्जन क्रिया ज्वाला कोशिका (Flame Cell) द्वारा होती है। जैसे – टीनिया, प्लेनेरिया, सिस्टोसोमा, फैसिओला आदि।
  • टीनिया सोलियम एक फीताकृमि है जो मनुष्य की आंत में रहने वाला अन्तः परजीवी होता है।
  • सिस्टोसोमा (Schistosoma) को रक्त पर्णाभ (Blood Fluke) भी कहा जाता है।

एस्केल्मिन्थीज या निमेटोडा 

  • इन्हें गोलकृमि या सूत्रकृमि भी कहा जाता है।
  • ये जलीय, स्थलीय, परजीवी होते हैं और इनमें कृत्रिम देहगुहा होती है।
  • ये अधिकतर परजीवी होते हैं तथा अपने पोषकों में रोग उत्पन्न करते हैं। जैसे – एस्केरिस, ट्राइकिनेला, ऐकाइलोस्टोमा, वूचेरिया आदि ।
  • ऐस्केिरिस मनुष्य की छोटी आंत में पाया जाता है।
  • वूचेरिया से मनुष्य में फाइलेरिया रोग उत्पन्न होता है।

ऐनीलिडा

  • ऐनेलिडा शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम लैमार्क ने किया था।
  • इनमें जन्तुओं का शरीर खण्डित, लंबा एवं कृमि के आकार का होता है।
  • वास्तविक देहगुहा की उत्पत्ति सर्वप्रथम इन्हीं जंतुओं में ही हुई थी।
  • ये स्वतंत्रजीवी, बहुकोशिकीय, त्रिस्तरीय, सीलोममुक्त होते हैं।
  • गति के लिए इनमें शूक (Setae) और चूषक पाये जाते हैं।
  • इनमें तंत्रिका रज्जू उपस्थित होती है। जैसे – केंचुआ, जोंक, बेरिस, पॉलीगोर्डियस, नेरीस, एफ्रोडाइट आदि।
  • जोंक बाह्य परजीवी तथा रक्ताहारी होती है। वह खून चूसते समय एक प्रकार का प्रतिस्कन्दक निकालती है जो खून को जमने से रोकती है।
  • एफ्रोडाइट को समुद्री चूहा कहा जाता है।
  • केंचुआ को मृदा उर्वरता का बैरोमीटर, प्रकृति का हलवाहा, एवं पृथ्वी की आंत कहते हैं।
  • नेरीस को सीपीकृमि कहते हैं।

आर्थोपोडा

  • ‘आर्थोपोडा’ शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम वान सीबोल्ड (Van Seibold) ने 1845 ई. में किया था। यह जन्तु जगत का सबसे बड़ा संघ है।
  • ये जन्तु जल, थल एवं वायु तीनों स्थानों पर पाये जाते हैं।
  • जंतुओं का शरीर सिर व धड़ में विभक्त होता है।
  • ये खण्डयुक्त, त्रिस्तरीय होते हैं। देहगुहा एक रूधिर गुहा होती है। जो रक्तवाहिनियों के मिलने से बनती है।
  • इनमें खुला रूधिर तंत्र होता है तथा तंत्रिका तंत्र पूर्ण विकसित होता है।
  • इनमें निषेचन बाह्य एवं आंतरिक दोनों प्रकार का होता है। जैसे – तिलचट्टा, मधुमक्खी, रेशम का कीड़ा, कनखजूरा, ट्राइआर्थस, बिच्छू, मकड़ी, किलनी, झींगा, केकड़ा, मच्छर, मक्खी आदि ।
  • इस संघ का सबसे बड़ा वर्ग कीटवर्ग है।

मोलस्का

  • मोलस्का अकशेरूकी जगत का दूसरा सबसे बड़ा संघ है।
  • कई प्राणी उभयचारी होते हैं तथा शरीर कवच से ढाका होता है।
  • इनका शरीर एक पतली झिल्ली मैंटल से ढंका रहता है। मैंटल के चारों तरफ एक कठोर कवच होता है।
  • इनमें रक्त परिसंचरण तंत्र विकसित होता है। रक्त नीला, हरा, लाल या रंगहीन होता है। इनमें रंग हीमोसियानिन नाम के वर्णक की उपस्थित के कारण होता है।
  • इनमें उत्सर्जन वृक्कों द्वारा होता है। जैसे – ऑक्टोपस, सीपिया, मोती शुक्ति, सीप, लाइमैक्स , हेलिक्स, पाइला नियोपाइलिना आदि।
  • पाइला को घोंघा या एप्पल स्नेल कहते हैं।
  • सीपिया का साधारण नाम कटल फिश है।
  • ऑक्टोपस को डेविल फिश भी कहते हैं।
  • काइटन को समुद्री चूहिया, ऐप्लीसिया को समुद्री खरगोश, ऑक्टोपस को शृंगमीन के नाम से जाना जाता है।

प्रोटिस्टा जगत (एककोशिकीय)

प्रोटोजोआ – प्रोटोजोआ शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम गोल्डफस ने 1820 में किया था।

  • ये सबसे आदिकालीन और सबसे साधारण जंतु हैं।
  • एककोशिकीय व सूक्ष्मदर्शी प्राणी।
  • ये जलीय, स्वतंत्रजीवी, सहजीवी या परजीवी होते हैं।
  • इन जंतुओं के शरीर में कोई ऊतक या अंग नहीं होते हैं।
  • इनमें केवल अंगक होते हैं।
  • इनका शरीर नग्न या पोलिकल द्वारा ढका रहता है। कुछ जन्तु कठोर खोल में होते हैं। जैसे – अमीबा, एण्ट अमीबा, हिस्टोलिका, यूग्लीना, पैरामीशियम कॉडेटम, प्लैजमोडियम आदि ।
  • अमीबा का वैज्ञानिक नाम – अमीबा प्रोटियस
  • एण्ट अमीबा हिस्टोलिटिका परजीवी के कारण मनुष्य को पेचिस हो जाती है। एण्ट अमीबा जिनजिवैलिस परजीवी से पायरिया (Pyarrhoea) रोग होता है।
  • ट्रिपैनोसोमा गैम्बियेन्स मनुष्य के रूधिर में होता है जिससे सुषप्ति रोग (Sleeping Sickness) होता है। इसके अलावा इससे गैब्बियन ज्वर भी हो जाता है।
  • लीश मैनिया डोनोवानी के कारण मनुष्य में कालाजार (Kalazar) रोग हो जाता है।
  • मलेरिया बुखार प्लैजमोडियम के माध्यम से मनुष्य में उत्पन्न होता है |
  • चप्पल के आकार का होने के कारण पैरामीशियम कॉडेटम को चप्पल जन्तु भी कहते हैं।
  • यूग्लीना को हरा प्रोटोजोआ कहा जाता है।

एकाइनोडमेट

  • इनकी त्वचा कांटेदार होती है। जैसे – तारा मछली, ब्रिस्टल स्टार, समुद्री खीरा, समुद्री लिली, थायोन; एण्टीडॉन आदि।
  • एस्टेरियस को तारामीन कहते हैं।

कार्डेटा

  • कार्डेटा को 13 वर्गों में विभाजित किया गया है। इस संघ में वे जन्तु हैं जिनके जीवन चक्र की किसी न किसी अवस्था में एक पृष्ठ रज्जु एवं एक खोखली पृष्ठ तंत्रिका रज्जु पायी जाती है।
  • इस संघ के जन्तुओं में क्लोम दरारें अवश्य पायी जाती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!