विलयन (Solution)

विलयन (Solution)

1 min read

दो या दो से पदार्थों के समांगी मिश्रण (Homogeneous mixture) को विलयन कहते है। जैसे – नींबू पानी, सोडा आदि।

किसी भी विलयन को दो भागों में विभक्त किया जा सकता है।

  1. विलेय (Solute) – वह पदार्थ जिसमें घुलने की प्रवृति होती है, उसे विलेय कहते है। अर्थात या पदार्थ विलायक में घुल जाता है।
  2. विलायक (Solvent) – वह पदार्थ जिसमें विलेय घुल जाता है, उसे विलायक कहते है।

उदाहरण

  1. चीनी और जल का विलयन (इसमें चीनी विलेय और जल विलायक है)।
  2. टिंक्चर आयोडीन – आयोडीन और अल्कोहॉल का विलयन (इसमें आयोडीन विलेय और अल्कोहॉल विलायक है।)

विलयन के गुण 

  1. यह एक समांगी मिश्रण (homogeneous mixture) होता है।
  2. विलयन के कण 1 nm (10−9 meter) के व्यास से भी छोटे होते है, इसलिए इन्हें नग्न आँखों से नहीं देखा जा सकता है।
  3. विलयन में से प्रकाश की किरण गुजरने पर इसका प्रकीर्णन (Scattering) नहीं होता है।

विलयन के प्रकार 

विलयन के प्रकार

विलयन की सांद्रता (Solution concentration)

1. तनु विलयन (Dilute solution) : वह विलयन जिसमें विलेय की मात्रा, विलायक  तुलना में बहुत कम होती है तो ऐसे विलयन को तनु विलयन (dilute solution) कहा जाता है।

2. सान्द्र विलयन (Concentrated solution) : वह विलयन जिसमें विलेय की मात्रा , विलायक की तुलना में बहुत अधिक होती है ऐसे विलयन को सान्द्र विलयन (Concentrated solution) कहा जाता है।

3. संतृप्त विलयन(Saturated solution): किसी निश्चित तापमान पर यदि विलयन/विलायक में विलेय पदार्थ नहीं घुलता तो उसे संतृप्त विलयन कहते है।

4. असंतृप्त विलयन (Unsaturated solution): यदि विलयन में विलेय पदार्थ की मात्रा संतृप्तता से कम है, तो उसे असंतृप्त विलयन (Unsaturated solution) कहते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!